ताज़ा खबर
 

हॉकी में हौसला

पिछले कुछ समय से हॉकी में भारत की महिला और पुरुष टीमों का जैसा प्रदर्शन सामने आ रहा है, उसे देखते हुए इस खेल में भारत के सुनहरे अतीत की याद आना स्वाभाविक है।
Author November 7, 2017 03:54 am
भारतीय महिला हॉकी टीम

पिछले कुछ समय से हॉकी में भारत की महिला और पुरुष टीमों का जैसा प्रदर्शन सामने आ रहा है, उसे देखते हुए इस खेल में भारत के सुनहरे अतीत की याद आना स्वाभाविक है। हाल ही में ढाका में हुए एशिया कप में पुरुष हॉकी टीम ने खिताबी जीत हासिल की थी। अब जापान के कागामिगहारा में हुए महिला एशिया कप हॉकी के फाइनल में भारतीय टीम ने जो कामयाबी हासिल की है, वह कई लिहाज से अहम है। अव्वल तो चीन के साथ फाइनल मैच में दोनों टीमों के बीच जबर्दस्त टक्कर रही और इसमें भारतीय खिलाड़ियों ने साबित किया कि अब उनसे पार पाना आसान नहीं है। इसमें जीत के साथ ही भारतीय टीम इस महाद्वीप की चैंपियन हो गई है और इस नाते उसे अगले साल होने वाली विश्वकप हॉकी प्रतियोगिता में जगह मिल गई। आठ साल पहले इसी प्रतियोगिता के खिताबी मुकाबले में चीन ने भारत को हराया था। यानी इस जीत के साथ भारत ने अपना वह हिसाब भी चुकता किया है।

हालांकि एशिया कप में यह स्वर्णिम जीत हासिल करने में भारत की महिला हॉकी टीम को तेरह सालों का लंबा इंतजार करना पड़ा, लेकिन अब इसने उम्मीदें बढ़ा दी हैं। यों एशिया कप के लीग मैचों में भी भारतीय टीम ने यह साबित किया कि उसका जीतना कोई संयोग का मामला नहीं है, बल्कि उसके लिए पूरी टीम ने हर मोर्चे पर मेहनत की और मैदान में संगठित योजनाबद्ध खेल का प्रदर्शन किया और अपने ग्रुप में शीर्ष पर बनी रही। भारतीय खिलाड़ियों ने एशिया कप के लीग राउंड में भी चीन को 4-2 के अंतर से शिकस्त दी थी और इस तरह उनके हौसले पहले से ही बुलंद थे। लेकिन फाइनल मुकाबले में कांटे की टक्कर के रोमांच का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि निर्धारित समय में दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर रह गर्इं। यहां तक कि पेनल्टी शूटआउट में पांच-पांच मौके मिलने के बावजूद दोनों टीमें चार गोल की बराबरी पर रहीं। आखिर ‘सडेन डेथ’ के तहत चीनी खिलाड़ी गोल नहीं कर सकीं और भारत की ओर से रानी के अचूक निशाने के बूते अंतिम नतीजा 5-4 से भारत के पक्ष में रहा।

दरअसल, एक दौर में अंतरराष्ट्रीय हॉकी में भारत का जलवा लंबे समय तक कायम रहा। लेकिन बाजार के साए में क्रिकेट के जुनून और चकाचौंध में बाकी खेलों सहित हॉकी के मैदान में भी भारत पिछड़ता गया। हॉकी में नए प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की खोज से लेकर उनके प्रशिक्षण और प्रोत्साहन का सवाल हाशिये पर रहा। जब क्रिकेट की टीम किसी प्रतियोगिता में जीत हासिल करती है तो खिलाड़ियों पर तोहफों और पैसों की बरसात हो जाती है, लेकिन हॉकी या दूसरे खेलों में शानदार कामयाबी पर भी ऐसा नहीं देखा जाता। अलबत्ता इस बार एशिया कप में महिला टीम की जीत के बाद हॉकी इंडिया ने सभी खिलाड़ियों को एक-एक लाख रुपए पुरस्कार देने की घोषणा की है। हाल में हॉकी में भारत की महिला और पुरुष टीमों ने जो जज्बा दिखाया है उसे और मजबूत करने के लिए हॉकी इंडिया और खेल महकमे को विशेष रुचि दिखानी होगी और नई प्रतिभाओं को सामने लाने की गंभीर कोशिशें करनी होंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.