ताज़ा खबर
 

अपराध का मानस

एक अपराधी और पांच सौ बलात्कार- यह खबर पढ़ते ही रोंगटे खड़े हो गए।
Author January 20, 2017 04:40 am
प्रतीकात्मक तस्वीर

जेल में सेल्फी

बिहार के सीवान के पूर्व सांसद मो शहाबुद्दीन की जेल में ली गई सेल्फी पर विवाद खड़ा हो गया है और होना भी चाहिए। इतने बड़े और कुख्यात डॉन के पास जेल के अंदर मोबाइल फोन का मिलना अपने आप में अनेक सवाल खड़े करता है। आखिर बिना जेल अधीक्षक की मिलीभगत के यह कैसे संभव हो सकता है? हालांकि शहाबुद्दीन की जमानत की चारों तरफ से आलोचना होने के बाद बिहार सरकार ने उनकी जमानत को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी जिस पर उन्हें दुबारा जेल भेजा गया था। लेकिन अब जेल में सेल्फी प्रकरण से बिहार सरकार की भूमिका फिर सवालों के घेरे में आ गई है।
’प्रदीप कुमार तिवारी, नोएडा
अपराध का मानस

एक अपराधी और पांच सौ बलात्कार- यह खबर पढ़ते ही रोंगटे खड़े हो गए। दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है जो अब तक पांच सौ बच्चियों को अपनी हवस का शिकार बना चुका है। सुनील नाम का यह व्यक्ति हर हफ्ते अपने गांव (उत्तराखंड) से गाजियाबाद आता था और स्कूल में पढ़ने वाली आठ से पंद्रह साल तक की बच्चियों को अपनी हवस का शिकार बनाता था। बताया जा रहा है कि आरोपी चौदह साल पहले जब दिल्ली में दर्जी का काम करता था तब भी मोहल्ले की औरतों और बच्चों के साथ छेड़खानी करता था। उस समय मोहल्ले के लोगों ने उसे मारपीट कर वहां से भगा दिया था।
इस घटना के बाद लोगों को बहुत-सी बातें सोचने पर मजबूर करती हैं कि आखिर लोग छेड़खानी जैसे अपराध को छोटा मान कर उसे हल्के में क्यों ले लेते हैं? अगर चौदह साल पहले इस अपराधी को लोग पुलिस के हवाले कर देते तो वह इतना बड़ा अपराध नहीं कर पाता। सवाल यहां प्रशासन पर भी उठता है कि वह ऐसे अपराधियों को पकड़ने में नाकाम क्यों रहता है? इस मामले से यह भी सिद्ध होता है कि बलात्कार और छेड़खानी जैसी घटनाएं महिलाओं के कपड़ों की वजह से नहीं बल्कि पुरुषों की मानसिक कुप्रवृत्ति के कारण होती हैं।

विनीता मंडल इलाहाबाद

बिहार: मानसिक रूप से बीमार बच्ची के साथ स्कूल प्रिंसिपल और 3 अध्यापकों ने किया गैंगरेप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.