ताज़ा खबर
 

चौपालः बेमाई मुद्दों के बरक्स

उत्तर प्रदेश में अब चुनावी चर्चा पर विराम लग चुका है और प्रचंड बहुमत के साथ भाजपा की सरकार बन चुकी है।
Author March 29, 2017 03:50 am
एंटी रोमियो अभियान के तहत कार्रवाई करती यूपी पुलिस। (PTI FIle Photo)

उत्तर प्रदेश में अब चुनावी चर्चा पर विराम लग चुका है और प्रचंड बहुमत के साथ भाजपा की सरकार बन चुकी है। इस सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं योगी आदित्यनाथ, जो गोरखपुर जिले के पांच बार सांसद भी रह चुके हैं। नई सरकार के गठन के बाद जिस तरीके से ‘एंटी रोमियो दस्ता’ और अवैध बूचड़खानों को बंद करने का प्रयास शुरू किया गया है, इससे यही लगता है कि सरकार काम कर रही है। लेकिन ये जनता की तकलीफों से जुड़े सवाल नहीं हैं। सरकार की परीक्षा तब होगी, जब उत्तर प्रदेश से पलायन रुकेगा और महामारी का रूप धारण कर चुकी बेरोजगारी दूर होगी।

इसलिए आने वाले समय में सरकार की उपलब्धियों में अगर सबसे बड़ी चुनौती रोजगार का सवाल होना चाहिए। सिमटती सरकारी नौकरियों के दौर की बात करें तो अब कितनों के लिए अवसर रह गया है? इसलिए सरकार को ऐसी रणनीति पर काम करना चाहिए, जिससे जिस व्यक्ति ने जिस की शिक्षा हासिल की है, प्रशिक्षण प्राप्त किया है, उसमें निपुण है तो उसको उसी के क्षेत्र में उसकी योग्यता के अनुसार रोजगार सुनिश्चित हो।

दूसरी चुनौती है पिछली सरकार के दौरान जो खाली पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की गई थी, उसे पूरा करना। अगर उस प्रक्रिया को रोका जाएगा तो इसका सीधा असर उन नौजवानों पर पड़ेगा जो इस प्रक्रिया के अगले चरण में हैं। उन्हें मनोवैज्ञानिक दबाव से गुजरना पड़ेगा। इस लिहाज से प्रक्रिया को पारदर्शी और निष्पक्ष बनाने पर जोर होना चाहिए। दूसरे, बेरोजगारी खत्म या कम करने के लिए रियायती दरों पर या कुछ वर्षों के ब्याज माफी योजना के तहत उन बेरोजगार और काबिल युवाओं को कर्ज की उपलब्धता सुनिश्चित करने पर जोर होना चाहिए जो युवा कर्ज की मांग करते हैं और लघु उद्योग या फिर अपना खुद का रोजगार शुरू करना चाहते हैं। इससे उनकी तो बेरोजगारी दूर होगी ही, साथ ही साथ कई और भी रोजगार पाने में कामयाब होंगे।

अब यह देखना दिलचस्प होगा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार जनता को केवल सुहाने वाले बेमानी मुद्दों में उलझा कर छोड़ देती है या फिर जीवनयापन को सुचारु करने वाली रोजगार की समस्या पर भी ध्यान देती है।
कौशल कुमार, इलाहबाद विवि

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग