ताज़ा खबर
 

चौपाल: झूठ का सहारा

पिछले दिनों कश्मीर घाटी के केवल पांच जिलों- अनंतनाग, कुपवाड़ा, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां में कर्फ्यू लगाया गया।
Author August 31, 2016 23:21 pm
कश्मीर में होने वाली हिंसा में स्थानीय युवकों की बढ़ती जा रही है. (फाइल फोटो)

पिछले दिनों कश्मीर घाटी के केवल पांच जिलों- अनंतनाग, कुपवाड़ा, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां में कर्फ्यू लगाया गया क्योंकि यही जिले आतंकवाद-अलगाववाद के अड््डे कहे जाते रहे हैं। आधी से अधिक घाटी कर्फ्यू-मुक्त रही है। जम्मू-लद्दाख, जो क्षेत्रफल में घाटी से छह गुना और आबादी में डेढ़ गुना है, वहां तो खैर अशांति हुई ही नहीं। फिर क्योंकर अंग्रेजी मीडिया पूरे प्रदेश को अशांति के शिकार के रूप में दिखाने पर तुला है? क्या पीडीपी-भाजपा गठबंधन को विफल और मोदी सरकार को जम्मू-कश्मीर के मामले में दिशाहीन दर्शाने के लिए झूठ का सहारा लेना बुरा नहीं? उपर्युक्त पांच जिलों में भारत से आजादी की मांग करने वाले लोग भी एक बात समझ लें। कल्पना के लिए मान लें कि वे भारत की छत्रछाया से मुक्त हो जाते हैं। यह तय है कि अगले ही दिन पाकिस्तान और चीन उनकी कथित आजादी को निगल लेंगे। फिर ये दोनों मुल्क इनकी क्या गत बनाएंगे, यह गुलाम कश्मीर, गिलगित-बल्तिस्तान, बलूचिस्तान, सिंकियांग और तिब्बत के हालात से क्या इन्हें स्पष्ट नहीं होता?
’अजय मित्तल, मेरठ

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग