ताज़ा खबर
 

हिंदी में मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश में जहां-जहां भी गए और उन देशों में रह रहे भारतवासियों से जहां-जहां भी मुखातिब हुए, वहां उन्होंने हिंदी में भाषण दिए जिन्हें श्रोताओं ने न केवल अभिभूत होकर सुना बल्कि उन्हें मंत्रमुग्ध भी कर दिया। मित्रों का कहना है कि मोदीजी को अंगरेजी में दक्षता हासिल नहीं है इसलिए हिंदी […]
Author May 21, 2015 00:14 am

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश में जहां-जहां भी गए और उन देशों में रह रहे भारतवासियों से जहां-जहां भी मुखातिब हुए, वहां उन्होंने हिंदी में भाषण दिए जिन्हें श्रोताओं ने न केवल अभिभूत होकर सुना बल्कि उन्हें मंत्रमुग्ध भी कर दिया। मित्रों का कहना है कि मोदीजी को अंगरेजी में दक्षता हासिल नहीं है इसलिए हिंदी में भाषण देना उनकी मजबूरी है। बिलकुल ठीक। वैसे ही जैसे हिंदी पर जिसका अधिकार नहीं है, अंगरेजी में बोलना उसकी मजबूरी बन जाता है।

हां, एक बात अवश्य है कि भावना/ संवेदना के स्तर पर जिस आत्मीयता और राष्ट्रीय गौरव का अहसास कराते हुए हिंदी भाषा एक प्रवासी/ भारतीय के संस्कारों के साथ सहसा ही जुड़ जाती है और उसका सहज प्रवाह जैसे दर्शक अथवा श्रोता को प्रभावित करता है, वैसा सहज प्रभाव विदेशी भाषा अंगरेजी में कहां?
शिबन कृष्ण रैणा, अलवर

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- http://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- http://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग