ताज़ा खबर
 

लाचार बचपन

आज भारत अनेक परेशानियों से जूझ रहा है, उन्हीं में से एक मुख्य है ‘बालश्रम’। हम इसका विश्लेषण करें तो पाएंगे कि इसके दो कारण हैं। पहला है, साधन और संसाधनों की कमी से जूझते, बिलखते गरीबी में जी रहे बच्चे, जो अपनी लाचारी के कारण न चाहते हुए भी कहीं न कहीं मजदूरी करने […]
Author नई दिल्ली | September 21, 2015 16:00 pm

आज भारत अनेक परेशानियों से जूझ रहा है, उन्हीं में से एक मुख्य है ‘बालश्रम’। हम इसका विश्लेषण करें तो पाएंगे कि इसके दो कारण हैं। पहला है, साधन और संसाधनों की कमी से जूझते, बिलखते गरीबी में जी रहे बच्चे, जो अपनी लाचारी के कारण न चाहते हुए भी कहीं न कहीं मजदूरी करने के लिए विवश हैं। दूसरा कारण, घोटाले और भ्रष्टाचार उन बच्चों का हक छीन, समाज को शर्मसार करती रही हैं। बालश्रम का सीधा जुड़ाव गरीबी से है और गरीबी का सीधा संबंध रोजगार से, इसलिए जिस दिन भारत से भ्रष्टाचार और घोटालों का नामोनिशान मिट जाएगा तो रोजगार बढ़ेगा और गरीबी खत्म हो जाएगी, तब देश का हर वह बच्चा जो भारत का उज्जवल भविष्य है। फैक्टरियों या गलियों में चाय की दुकानों पर काम करता नहीं, बल्कि विद्यालयों और महाविद्यालयों में अच्छी शिक्षा प्राप्त करता दिखेगा। और देश के विकास में सहभागी बन सकेगा।
अभिषेक दुबे, दादरा एवं नगर हवेली

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- http://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- http://twitter.com/Jansatta

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग