ताज़ा खबर
 

चौपाल : आपदा से राहत

उत्तराखंड में राजनीतिक दल समस्याओं के समाधान के प्रति कितने गंभीर हैं इसका ताजा उदाहरण प्रदेश में इन दिनों आई आपदा है। मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष केवल बयानबाजी करके सरकार को बचाने और गिराने की जुगत में लगे हैं।
Author नई दिल्ली | July 5, 2016 01:17 am
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत। (फाइल फोटो)

उत्तराखंड में राजनीतिक दल समस्याओं के समाधान के प्रति कितने गंभीर हैं इसका ताजा उदाहरण प्रदेश में इन दिनों आई आपदा है। मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष केवल बयानबाजी करके सरकार को बचाने और गिराने की जुगत में लगे हैं। प्रदेश की जनता तो आपदा से बेहाल है ही, तीर्थयात्रियों के भी जगह-जगह मुसीबत में फंसे होने के समाचार आ रहे हैं। आश्चर्य इस बात का है कि मुख्यमंत्री इसे आपदा ही नहीं मान रहे हैं। लोग मर रहे हैं, सब कुछ बर्बाद हो रहा है। आखिर क्या परिभाषा है उनकी नजर में आपदा की? दूसरी ओर वे कह रहे हैं कि इस संकट में पूरी सहायता की जाएगी। असल बात यह है कि मुख्यमंत्री विधायकों को मनाने में ही लगे रहते हैं। उनकी ओर से घोषणाओं की बाढ़-सी आ गई है। विपक्ष भी आरोपों की बाढ़ में सरकार को डुबाने पर तुला है। आखिर कब लागू होंगी योजनाएं? क्या सभी विधायक विकास और आपदा में सहायता के लिए एकजुट नहीं हो सकते? सरकारी खजाने से वेतन और भत्ते तो सभी ले रहे हैं।

यश वीर आर्य, देहरादून

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग