December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

चौपाल: अमन की राह

कश्मीर और बलूचिस्तान, दोनों आजादी की मांग कर रहे हैं।

Author October 24, 2016 04:00 am
जम्मू कश्मीर के कुलगाम में आतंकवादियों ने पुलिस स्टेशन पर हमला किया ।

कश्मीर और बलूचिस्तान, दोनों आजादी की मांग कर रहे हैं। एक भारत से तो दूसरा पाकिस्तान से। कश्मीर को तो सब जानते हैं लेकिन बलूचिस्तान के बारे में जान लेना चाहिए कि यह पाकिस्तान का हिस्सा है जैसे कश्मीर हमारा। दोनों तरफ के अनेक लोग अपने यहां की सरकार के विरोध में खड़े हो गए हैं। हम या वे, दोनों में से एक को सही मानते हैं और दूसरे को गलत। ऐसा क्यों? हम बस कश्मीर देख रहे हैं, कश्मीरियों को नहीं, वे भी केवल बलूचिस्तान देख रहे हैं, बलोचों को नहीं।

सवाल है, आखिर यह विरोध क्यों हो रहा है? बलूचिस्तान प्राकृतिक संसाधनों से भरा हुआ है, जिनमें तेल, कोयला, सोना आदि शामिल हैं। इनका दोहन सरकार करना चाहती है। इस दोहन में लोगों पर अत्याचार हो रहे हैं। इसी की वजह से वहां एक संगठन बना जो सरकार से लड़ रहा है। अत्याचार से परेशान होकर आज वहां के लोग आजादी की मांग कर रहे हैं। 2003 से सीमा की सुरक्षा के नाम पर वहां सब कुछ जायज दिखाया जा रहा है, न जाने कितने लोग मारे जा चुके हैं, हालात वहां बेहद खराब होते जा रहे हैं। कश्मीर में भी हालात 1970 के बाद ज्यादा बिगड़ने लगे, नतीजतन सेना वहां ठहर-सी गई। फिर 1990 के बाद अफस्पा लगा, जो आज तक कायम है।

कश्मीर हो या बलूचिस्तान, दोनों तरफ आम नागरिक परेशान हैं। लगता है अब सरकारों के पास बंदूक के अलावा कोई हल नहीं बचा है, जबकि हमें शांति का कोई रास्ता खोजना होगा। रास्ता सच्चा होना चाहिए, दिखावे का नहीं।
’अभय, दिल्ली

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 4:00 am

सबरंग