ताज़ा खबर
 

डिजिटल बाधा

डिजिटल होने के पीछे के तर्क सही हैं, लेकिन जो बाधाएं है उनका निराकरण कैसे हो, यही सवाल है।
Author December 2, 2016 01:35 am
अमेरिका के बाद भारत इंटरनेट का दूसरा सबसे बड़ा उपयोगकर्ता देश है।

डिजिटल होने के पीछे के तर्क सही हैं, लेकिन जो बाधाएं है उनका निराकरण कैसे हो, यही सवाल है। क्या डिजिटल होने से किसानों की समस्याएं खत्म हो जाएंगी? किसान की समस्या तो यह है कि वह स्मार्टफोन के चक्कर में पड़ना ही नहीं चाहता। अगर निरक्षरता को थोड़ी देर के लिए छोड़ भी दें, तो किसान किस सूचना पर यकीन करे, टेलीविजन की, गूगल की, किसान के कार्यक्रम की, मोदी की मन की पर या किसी वैज्ञानिक की बात पर!

आजकल किसानों पर चर्चा करने वाले वैज्ञानिक क्या किसानों की किसी भी समस्या का निराकरण करवाने में सक्षम हैं? सतही जानकारी या सैद्धांतिक बातें जो किसानों को बताई जाती हैं, उससे खेतों में नीलगाय, चूहे, सियार, नेवले आदि आने नहीं बंद हो जाएंगे। एक तरफ अगर डिजिटल पर निर्भरता का ज्ञान दिया जाना चाहिए, तो दूसरी तरफ इसकी वजह से कई तरह की बाधाएं आ रही हैं, जिससे किसानों के और भी कर्जदार हो जाने की आशंका है। खैर, धीरे-धीरे शायद कुछ बदलाव नजर आए।
’प्रभात, दिल्ली विवि

 

पेट्रोल पंप, एयर टिकट काउंटर पर 2 दिसबंर के बाद नहीं चलेंगे 500 रुपए के पुराने नोट

वीडियो: पूरे उत्तर भारत में छाया घना कोहरा

 

 

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    AMRIT RAJ
    Dec 2, 2016 at 5:52 pm
    भारत के प्रधान न्यायाधीश माननीय टी एस ठाकुर के बातों को गम्भीरता से सभी लोगों को सोचना चाहिए।
    Reply
सबरंग