December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

चौपाल: बेकाबू होते लोग

पिछले दिनों दिल्ली-शामली-सहारनपुर रेलमार्ग पर जनता एक्सप्रेस में एक युवक की हत्या की खबर तमाम स्थानीय अखबारों की सुर्खियां बनी हुई थी।

Author November 23, 2016 04:08 am
एक एटीएम के बाहर पैसे निकालने के लिए लगी कतार (फाइल फोटो)

पिछले दिनों दिल्ली-शामली-सहारनपुर रेलमार्ग पर जनता एक्सप्रेस में एक युवक की हत्या की खबर तमाम स्थानीय अखबारों की सुर्खियां बनी हुई थी। वजह थी केवल सीट का विवाद। सीट न छोड़ने को लेकर विवाद इतना बढ़ गया कि एक निर्दोष इंसान की जान चली गई। तमाम संचार माध्यमों से पता चलता है कि आए दिन इस तरह की सैकड़ों घटनाएं देश भर में घटित होती हैं। कहीं रेलों-बसों में बैठने-उठने को लेकर विवादो में लोगों की जान चली जाती है तो कहीं सड़कों पर मामूली-सी बात पर हुई रोड रेज की तमाम घटनाएं लोगों को लील लेती हैं। कहीं मुहल्लों में नालियों और कूड़े-कचरे को लेकर हुआ विवाद भयानक झगड़े की जड़ बन जाता है तो कहीं स्कूल-कॉलेजों में वर्चस्व हो लेकर हुए विवादों में छात्र-गुटों के बीच हथियार निकाल जाते हैं।

ऐसी घटनाओं को केवल कानून-व्यवस्था की नाकामी से जोड़ देना उचित नहीं होगा। इनके पीछे वजहें और भी हैं। आधुनिक जीवन-शैली में मची आपाधापी लोगों में बढ़ती हिंसक प्रवृत्ति की एक अहम वजह हो सकती हैं। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपने समाज से धीरे-धीरे कटते जा रहे हैं, जिसके चलते लोगों में अवसाद, तनाव और चिड़चिड़ापन जैसे मानसिक विकार घर करते जा रहे हैं। तेजी से बदलता रहन-सहन, पर्यावरण से दूरी आदि मानवीय जीवन-शैली में परिवर्तन ला रहे हैं।जब तक लोग जीवन की आपाधापी और अंधी दौड़ से दूर होकर आंतरिक शांति, सुकून और संतोष की तलाश नहीं करेंगे, तब तक ऐसी तमाम घटनाएं होती रहेंगी, जिनको कानून-व्यवस्था को लाख दुरुस्त कर देने पर भी रोक पाना लगभग असंभव ही होगा।

’सुधीर तेवतिया, बागपत

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 23, 2016 4:07 am

सबरंग