ताज़ा खबर
 

चौपालः आधुनिक सामंतवाद

पिछले दिनों हमारी वीआईपी संस्कृति पर दो परस्पर विरोधाभासी खबरें पढ़ने को मिलीं। गुजरात विधानसभा अध्यक्ष गांधीनगर के सिविल अस्पताल में आंखों की जांच कराने गए और गाड़ी गलत पार्किंग में लगा दी।
Author June 30, 2017 04:01 am
गुजरात विधानसभा

पिछले दिनों हमारी वीआईपी संस्कृति पर दो परस्पर विरोधाभासी खबरें पढ़ने को मिलीं। गुजरात विधानसभा अध्यक्ष गांधीनगर के सिविल अस्पताल में आंखों की जांच कराने गए और गाड़ी गलत पार्किंग में लगा दी। अब वहां मौजूद बेचारा गार्ड अपनी ड्यूटी से मजबूर था और अध्यक्ष महोदय को पहचानता भी नहीं था लिहाजा उसने उन्हें वहां से गाड़ी हटाने के लिए कहा। सुबह-शाम जी हुजूर सुनने वाले नेताजी भला यह गुस्ताखी कैसे बर्दाश्त करते! पहले तो उन्होंने अपने तरीके से उसको झड़प लगाई और फिर बाद में गार्ड को अपनी नौकरी से भी हाथ धोना पड़ा। बात यहीं तक खत्म नहीं हुई। अस्पताल ने उस गार्ड को नौकरी पर रखने वाली सुरक्षा एजेंसी का करार ही रद्द कर दिया। अब अस्पताल वाले चाहे लाख सफाई दें कि इसका विधानसभा अध्यक्ष महोदय से कोई संबंध नहीं है लेकिन कोई बच्चा भी समझ सकता है कि यह सब किसके इशारों पर हुआ है। यह शायद हमारे महान लोकतंत्र के सामंतवाद का नया संस्करण है।

दूसरी खबर बंगलुरु से आई जहां एक ट्रैफिक इंस्पेक्टर ने माननीय राष्ट्रपति के काफिले के बीच एक एम्बुलेंस को निकलने का रास्ता दिया। इंस्पेक्टर के इस कदम की आम जनता से लेकर उच्च अधिकारियों तक सभी ने जम कर प्रशंसा की। एक तरफ बंगलुरु वाली खबर जहां नई उम्मीद जगाती है वहीं गांधीनगर की घटना डराती है।
असल में इतने सालों की गुलामी हमारे अवचेतन मन पर ऐसी छाई है कि आजादी के सत्तर साल बाद भी हम इस प्रकार की घटनाओं को गंभीरता से नहीं लेते। आए दिन आम बातचीत में हम यह सुनते रहते हैं कि वह तो अमुक मंत्री या नेता का खास आदमी है और कोई भी काम चुटकियों में करा सकता है या फलाना आदमी बहुत जुगाड़ू है। दरअसल, यह जुगाड़ू प्रवृत्ति और जी हजूरी वाली संस्कृति ही इस आधुनिक सामंतवाद की जड़ है। अपना उल्लू सीधा करने के लिए हम जन प्रतिनिधियों को इतना ऊपर चढ़ा देते हैं कि वे स्वयं के लिए विशिष्टता के स्थायी मापदंड गढ़ लेते हैं। इस मानसिक गुलामी से मुक्त होना औपनिवेशिक गुलामी से आजाद होने से कहीं अधिक चुनौतीपूर्ण है।
’अनिल हासानी, ओम नगर, हलालपुरा, भोपाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on June 30, 2017 4:01 am

  1. No Comments.
सबरंग