संपादकीय

संपादकीयः आतंक के तार

छब्बीस नवंबर 2008 को मुंबई में हुए आतंकवादी हमले की साजिश रचने वाले कौन थे, किन्होंने उसे अंजाम दिया और किन्होंने उसमें मदद की,...

संपादकीयः नेट की आजादी

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण यानी ट्राई द्वारा इंटरनेट सेवाओं तक सबकी समान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए नेट-निरपेक्षता के पक्ष में लिए गए फैसले...

संपादकीयः न्यायतंत्र पर नजर

हमारी राज्य-व्यवस्था का कोई भी अंग भ्रष्टाचार से बच नहीं सका है। पिछले कुछ बरसों में उच्च न्यायपालिका के कई सदस्यों पर भी भ्रष्टाचार...

संपादकीयः प्रेम के वधिक

सबसे खूबसूरत और कोमल इंसानी अहसासों में शुमार प्रेम अब रूमानी किस्से-कहानियों के बजाय अपराध की खौफनाक दुनिया में दस्तक देता ज्यादा दिखाई दे...

प्रतिभा की पहचान

आइपीएल टीमों के इस चुनाव ने एक बार फिर यही रेखांकित किया है कि हमारे देश में खेल प्रतिभाओं की कमी नहीं है, जरूरत...

संपादकीयः पंचायतों की तस्वीर

केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र सिंह ने पंचायतों में महिलाओं के लिए आरक्षण बढ़ा कर पचास फीसद करने के केंद्र सरकार के इरादे के...

संपादकीयः खेल की खातिर

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) में सुधार संबंधी न्यायमूर्ति आरएम लोढ़ा समिति की सिफारिशें लागू करने के सुप्रीम कोर्ट के सख्त निर्देश से विश्व...

संपादकीयः भ्रष्टाचार के स्रोत

नोएडा प्राधिकरण के निलंबित मुख्य इंजीनियर यादव सिंह की गिरफ्तारी ने एक बार फिर अफसरशाही, राजनीति और कारोबार के भ्रष्ट तत्त्वों के गठजोड़ की...

संपादकीयः वहशी सलूक

बंगलुरु में एक तंजानियाई छात्रा से मारपीट और उसे निर्वस्त्र कर सड़क पर दौड़ाने से उन्मादी भीड़ का वहशी चेहरा फिर सामने आया है।

संपादकीयः न्यायिक ऊहापोह

समलैंगिक संबंधों को अपराध करार देने के खिलाफ दायर याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट द्वारा पांच सदस्यीय संविधान पीठ को सौंपे जाने से इस मसले पर...

संपादकीयः हरित संस्कार

एक जागरूक समाज अपने आसपास की आबोहवा को स्वच्छ और जीवन को स्वस्थ बनाने की पहल खुद करता है। कई बार समाज में मौजूद...

यथास्थिति का अर्थ

इस बार रिजर्व बैंक ने नीतिगत दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया है। क्या रिजर्व बैंक ने इसकी जरूरत नहीं समझी, या इसके लिए...

खौफ का राज

एक वीडियो के जरिए दिल्ली पुलिस का जो चेहरा फिर सामने आया है, वह न केवल मौका मिलते ही पुलिसकर्मियों के अराजक और अमानवीय...

आरक्षण की आग

हमारे देश की राजनीति में आरक्षण एक ऐसा मुद्दा है जो थोड़ा-बहुत हर वक्त सुलगता रहता है और जब-तब लपटों की भी शक्ल अख्तियार...

मैला खेल

दिल्ली में नगर निगम कर्मचारियों की हड़ताल से फैली गंदगी के बीच राजनीति चमकाने का मलिन खेल जारी है।

जीका का खौफ

यह विडंबना ही है कि तमाम वैज्ञानिक प्रगति के बावजूद दुनिया थोड़े-थोड़े अंतराल पर किसी न किसी महामारी के आतंक के साए में रहती...

शरीफ का साहस

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बयान से भरोसा जगा है कि वे आतंकवाद से निपटने को लेकर संजीदा हैं।

नैतिक तकाजे

एफआईआर दर्ज करने के सतर्कता अदालत के आदेश के बाद केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी के पद पर बने रहने का कोई औचित्य नहीं...

विकास के टापू

हर बार नई जनगणना के आंकड़े जनसंख्या में हुई वृद्धि के साथ-साथ शहरीकरण की रफ्तार भी बताते हैं। एक समय था कि भारत को...

भ्रष्टाचार का सूचकांक

पारदर्शिता के लिए काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की वैश्विक रिपोर्ट हर साल आती है, जो बताती है कि विभिन्न देशों में...

गंगा की गंदगी

सत्ता में आते ही प्रधानमंत्री ने गंगा सफाई को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शुमार करते हुए इस दिशा में तेजी से प्रयास करने की...

आस्था का आधार

शिंगणापुर शनि मंदिर के कर्ताधर्ता पुराने अंधविश्वासों के आधार पर पुरुष और स्त्री के बीच विभाजक रेखा खींचते आ रहे हैं, तो उन्हें किस...

अरुणाचल में अधीरता

साल 2015 दिसंबर में पैदा हुआ यह संकट अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की केंद्रीय मंत्रिमंडल की सिफारिश से और गहरा गया है।

फ्रांस के साथ

फ्रांस के साथ हुए वित्तीय और कारोबारी समझौतों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्त्वाकांक्षी योजना मेक इन इंडिया को निस्संदेह कुछ गति मिलने की...