दुनिया मेरे आगे

  • सेवा का मर्म

    महावीर सरन जैन महान सेवा-भावी संत मदर टेरेसा के बारे में मोहन भागवत की सांप्रदायिक टिप्पणी का भाजपा की मीनाक्षी लेखी ने विचित्र तरीके से...

  • सातार का अदृश्य जल

    मध्यप्रदेश में ओरछा के निकट बहती सातार नदी की धार अब सूख गई है। एक नदी का विलुप्त होना इतिहास और संस्कृति की मृत्यु की...

  • संवेदना का पक्ष

    उस रात दो-ढाई बज गए थे। विभागीय मित्र, रंगकर्मी और आकल्पक राहुल रस्तोगी और एक रंगकर्मी मित्र अनूप जोशी बंटी सहित हम कुछ लोग उज्जैन...

  • सपने के बरक्स

    रिम्मी संसद के भीतर प्रवेश करने से पहले कुछ नेताओं को नतमस्तक होते या मत्था टेकते देखती थी तो सोचती थी कि लोग ऐसा क्यों...

  • नौकर का बाथरूम

    विष्णु नागर हमारा बेटा केरल में जिस फ्लैट में रहता है, उसके मालिक उसे अब बेचना चाहते हैं। मगर अभी तक इस कोशिश में वे...

  • पुस्तक संस्कृति

    शैलेंद्र पिछले साल दिसंबर का आखिरी हफ्ता था। उस दिन सुबह के लगभग नौ बजने को थे। कोहरे की चादर अब भी पसरी हुई थी।...

  • खरा बेला की थाली

    बिंदु चौहान नई कहानी के दौर में सुदूर इलाहाबाद में बैठ कर किस्से-कहानियां गढ़ने वाले रचनाकार अमरकांत ने हिंदी कथा-साहित्य को नायाब कहानियां दीं। तमाम...

  • बादशाह का सूट

    रागिनी नायक पहली बार जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अपने ही नाम की पट्टी के साथ ‘मेड इन यूके’ वाले कई लाख के सूट के...

  • शहर की शक्ल

    पुरातन जीवन मूल्यों, पौराणिक-धार्मिक विश्वासों और इतिहास की गति को वापस ले जाने की कोशिश में लगी एक पार्टी के नेता के तौर पर नरेंद्र...

  • चुनौती एक अवसर

    अजय के. झा जहां पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय राष्ट्रीय स्तर पर जलवायु संकट के प्रभावों से निपटने और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिसंबर में...