चौपाल

  • विकास का ढोल

    ऐसा लगता है कि यूपीए-दो की सरकार से लोगों को शिकायत सिर्फ इस बात से थी कि वह कांग्रेसनीत गैर-हिंदुत्ववादी ‘सेक्युलर’ सरकार थी। वरना मौजूदा...

  • शिक्षा की दीवारें

    गुणवत्तायुक्त उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए प्रचारित तस्वीर के बरक्स भारत के कई राज्यों में बुनियादी शिक्षा की हालत बदतर है। कथित अच्छी शिक्षा का...

  • हिंदी के साथ

    कांग्रेस पार्टी द्वारा नेहरू की एक सौ पचीसवीं जयंती पर आयोजित समारोह के उद्घाटन कार्यक्रम में जब देश-विदेश के बड़े-बड़े महानुभाव और नेहरू-प्रेमी नेहरूजी के...

  • खट्टे अंगूर

    जब किसी नेता को वर्तमान दल में अपनी दाल गलती नजर नहीं आती तो वह दूसरे दल में चला जाता है और पुराने दल की...

  • विरासत की सुध

    संस्कृतिविदों की गुहार और समय-समय पर अदालती फटकार के बावजूद ऐतिहासिक विरासतों का संरक्षण सरकारों की चिंता में अब तक शामिल नहीं हो सका है।...

  • भाजपा के रंग

    केंद्र में भाजपा के सत्तारूढ़ होने पर दिल्ली में एक बहुत बड़ा परिवर्तन दिखाई दे रहा है। सभी सड़कों के किनारे और बीच के विभाजन,...

  • अनर्थ नीति

    तवलीन सिंह ने ‘पिंड छुड़ाना होगा समाजवादी नीतियों से’ (23 नवंबर) टिप्पणी में समाजवादी नीतियों को कोसते हुए सफेद झूठ को परोसने का काम किया...

  • विकल्प की खोज

    हमारे मुल्क में कानून के सामने क्या सभी नागरिक बराबर हैं? क्या सभी को सहज, सरल और सुलभ न्याय उपलब्ध है? कहीं हमारे देश की...

  • सपनों के सौदागर

    आमतौर पर तथाकथित बाबाओं के सत्संग में गरीब और कम पढ़े-लिखे लोग जाते हैं। यही बात नेताओं की सभाओं पर कुछ हद तक लागू होती...

  • फरेब का जाल

    इस ‘रामपाल कांड’ ने देश और उसके विचारवान लोगों के सामने कुछ सवाल खड़े कर दिए हैं। पहला सवाल राष्ट्र के सामाजिक सोच में गिरावट...