December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

पतंजलि के कारोबार में अगले साल 200% का उछाल होगा: रामदेव

रामदेव ने कहा कि ‘पतंजलि समूह आने वाले दिनों में बड़े पैमाने पर वस्त्र निर्माण के क्षेत्र में उतरेगा और कुर्ता-पायजामा जैसे भारतीय परिधान के साथ जींस सरीखे विदेशी कपड़े भी बनाएगा।'

Author इंदौर | October 22, 2016 20:44 pm
योग गुरु रामदेव। (फाइल फोटो)

पतंजलि समूह के बड़े पैमाने पर वस्त्र निर्माण क्षेत्र में उतरने की घोषणा करते हुए इसके प्रवर्तक योग गुरु रामदेव ने शनिवार (22 अक्टूबर) को भरोसा जताया कि अगले वित्तीय वर्ष में इस समूह के कारोबार में 200 प्रतिशत की भारी वृद्धि होगी। रामदेव ने यहां मध्यप्रदेश सरकार के वैश्विक निवेशक सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में कहा, ‘पतंजलि समूह आने वाले दिनों में बड़े पैमाने पर वस्त्र निर्माण के क्षेत्र में उतरेगा और कुर्ता-पायजामा जैसे भारतीय परिधान के साथ जींस सरीखे विदेशी कपड़े भी बनाएगा। अभी हमारे कारोबार की वृद्धि दर 100 प्रतिशत के स्तर पर है, जो अगले वित्तीय साल में दोगुनी बढ़कर 200 प्रतिशत हो जाएगी।’ उन्होंने कहा कि पतंजलि समूह अगले दो-तीन वर्षों में खेती, दूध उत्पादन और अन्य क्षेत्रों में किसानों को 10,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की आय के अवसर मुहैया कराना चाहता है।

रामदेव ने जोर देकर कहा कि दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में मंदी के बावजूद भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत स्थिति में है और देश में निर्माण क्षेत्र का बड़ा वैश्विक केंद्र बनने की पूरी क्षमता है। उन्होंने वैश्विक निवेशक सम्मेलन में उपस्थित उद्योग जगत के दिग्गजों को सम्बोधित करते हुए कहा, ‘दुनिया के अलग-अलग देशों से हम 24-25 लाख करोड़ रुपए का सामान आयात करते हैं। इसमें चीन से चार लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का आयात शामिल है। हम ठान लें, तो भारत को निर्माण क्षेत्र का बड़ा वैश्विक केंद्र बना सकते हैं।’

योग गुरु ने मध्यप्रदेश में उद्योग मित्र नीतियां बनाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि सूबे में जड़ी-बूटियों की खेती और खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में खासी संभावनाएं हैं। प्रदेश सरकार ने सितंबर में पतंजलि आयुर्वेद को नजदीकी पीथमपुर औद्योगिक क्षेत्र में खाद्य प्रसंस्करण संयंत्र लगाने के लिये 40 एकड़ जमीन 25 लाख रुपए प्रति एकड़ की दर पर आवंटित की थी। इस संयंत्र में करीब 500 करोड़ रुपए का निवेश प्रस्तावित है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 22, 2016 8:44 pm

सबरंग