December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

गेहूं का एमएसपी मूल्य ₹100, दालों का ₹550 प्रति क्विंटल तक बढ़ा

एमएसपी वह दर है जिस भाव पर सरकार किसानों से खाद्यान्न खरीदती है।

Author नई दिल्ली | November 16, 2016 21:53 pm
गेहूं की बालियां (चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है)

सरकार ने मंगलवार (15 नवंबर) को गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 100 रुपए बढ़ाकर 1,625 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया। इसके अलावा विभिन्न दालों का एमएसपी 550 रुपए प्रति क्विंटल तक बढ़ाने का फैसला किया गया है। एमएसपी में बढ़ोतरी का मकसद इनकी रबी फसलों का उत्पादन बढ़ाना और कीमतों पर अंकुश लगाना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति (सीसीईए) की बैठक में 2016-17 के लिए सभी रबी (सर्दियों की) फसलों के एमएसपी को मंजूरी दी गई। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि सीसीईए ने गेहूं का एमएसपी 2016-17 की रबी फसल के लिए 100 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ाकर 1,625 रुपए प्रति क्विंटल करने की मंजूरी दी है। पिछले साल यह 1,525 रुपए क्विंटल था।

प्रवक्ता ने कहा, ‘गेहूं का एमएसपी 6.6 प्रतिशत, जौ का 8.2 प्रतिशत (बोनस सहित), चना का 14.3 प्रतिशत, मसूर 16.2 प्रतिशत, रेपसीड-सरसों का 10.4 प्रतिशत तथा साफ्लावर का 12.1 प्रतिशत बढ़ाया गया है। इसके अलावा दलहन एवं तिलहन की खेती को प्रोत्साहन देने के लिए इन फसलों पर एमएसपी के ऊपर बोनस की घोषणा भी की गई है। बोनस सहित चने का एमएसपी बढ़ाकर 4,000 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है। पिछले साल यह 3,500 रुपए था। मसूर का समर्थन मूल्य 3,400 रुपए से बढ़ाकर 3,950 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है।

कृषि मंत्रालय ने चने और मसूर का समर्थन मूल्य बढ़ाकर बोनस सहित रबी सत्र के लिए 4,000 रुपए प्रति क्विंटल करने का प्रस्ताव किया था। पिछले साल चने और मसूर का एमएसपी क्रमश: 3,500 और 3,400 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया था। इनमें दोनों पर 75 रुपए का बोनस भी शामिल था। एमएसपी वह दर है जिस भाव पर सरकार किसानों से खाद्यान्न खरीदती है। रबी फसलों का विपणन 2017-18 में अप्रैल से किया जाएगा। सरकार इस वर्ष बेहतर मानसून रहने के कारण दो करोड़ 07 लाख टन दलहन उत्पादन का लक्ष्य कर रही है। उसे रबी सत्र में 1.35 करोड़ टन उत्पादन होने की उम्मीद है जबकि अभी अभी समाप्त हुए खरीफ सत्र में 87 लाख टन का उत्पादन होने का अनुमान लगाया गया है।

सरसों के एमएसपी को बोनस सहित बढ़ाकर 3,700 रुपए क्विंटल किया गया है जो पिछले वर्ष 3,350 रुपए क्विंटल था। जबकि कुसुम (साफ्लावर) का समर्थन मूल्य 400 रुपए बढ़ाकर 3,700 रुपए क्विंटल किया गया है। जौ के एमएसपी को 100 रुपए बढ़ाकर 1,325 रुपए क्विंटल किया गया। एक सरकारी बयान में कहा गया है, ‘बढ़े हुए एमएसपी को दी गई मंजूरी कृषि लागत एवं मूल्य आयोग (सीएसीपी) की सिफारिशों के आधार पर दी गई है।’ सीएसीपी की सिफारिशों को आम तौर पर जैसे का तैसा मान लिया जाता है। लेकिन सीएसीपी की सिफारिशों से बढ़कर दलहन और तिलहन खेती को सहायता प्रदान करने के लिए मंत्रिमंडल ने चना के लिए 200 रुपए प्रति क्विंटल का बोनस, मसूर के लिए 150 रुपए प्रति क्विंटल तथा रेपसीड (सरसों) और कुसुम तिलहन के लिए 100 रुपए प्रति क्विंटल का बोनस देने की सिफारिश की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 16, 2016 6:34 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग