ताज़ा खबर
 

VIDEO: हमसफर एक्सप्रेस में मिलेंगी वो सुविधाएं जो भारत की किसी भी ट्रेन में नहीं, सीट पर बैठे-बैठे मिलेगी लोकेशन, सबके लिए चार्जिंग प्वाइंट

कोच के अंदर डिस्प्ले सिस्टम भी दिया गया है। जिस पर आपको पता चलता रहेगा कि आगे कौन-सा स्टेशन आने वाला है। यह जीपीएस सिस्टम से कनेक्टेड है। सीटों को आरामदायक बनाया गया है।
हमसफर एक्सप्रेस के कोच को किया गया अपग्रेड। (Photo Source: Express)

यात्रियों के ट्रेन के सफर के अनुभव को बेहतरीन बनाने के लिए रेलवे ने हनसफर एक्सप्रेस के कोचों में बेहतरीन फीचर्स दिए हैं, जो इसे वर्ल्ड क्लास बनाते हैं। इस कोच में मौजूदा कोच से कई तरह के अलग फीचर्स दिए गए हैं। हमसफर एक्सप्रेस के नए कोच में जीपीएस आधारित पैसेंजर इंफॉरमेशन सिस्टम, फायर और स्मोक डिटेक्टर्स दिए गए हैं। यही नहीं हर एक सीट के लिए एक चार्जिंग प्वाइंट और रीडिंग लाइट भी दी गई है। इसके अलावा भी कई ऐसी सुविधाएं आपकों इन कोचों में देखने को मिलेंगी जो आपने आज तक किसी ट्रेन में नहीं देखी होगी। कोच को यात्रियों के फीडबैक के बाद तैयार किया गया। इंडियन रेलवे ने अपने यू-ट्यूब चैनल पर एक वीडियो अपलोड किया है, जिसमें इस बात की पूरी जानकारी दी गई है कि कोचों में क्या-क्या बदलाव किए गए हैं।

हमसफर एक्सप्रेस के कोच में किए गए ये अहम बदलाव
– कोच में लगाए गए सीसीटीवी कैमरों के लिए डिस्प्ले स्क्रीन भी कोच के अंदर की लगाई गई है। इससे पहले सीसीटीवी फुटेज को देखने की व्यवस्था नहीं थी। बताया गया है कि सुरक्षा दृष्टि से यह काफी मददगार साबित होगा, इसकी मदद से ट्रेन में अनाधिकृत तरीके से चढ़ने और उतरने वालों के बारे में आसानी से पता लग जाएगा।

– हमसफर एक्सप्रेस के कोच के टॉयलेट में भी सुधार किया गया है। भारतीय रेलवे के इतिहास में पहली बार टॉयलेट के साथ यूरिनल दिया गया है। जिसमें वॉटर सेंसर भी दिया गया है। इसके अलावा टॉयलेट में फायर ऑलर्म भी लगाया है। जिससे टॉयलेट के अंदर कोई सिगरेट-बीड़ी पिएगा तो आलर्म बज उठेगा।

– बच्चों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए बॉथरूम में नैपी चेंजर सीट दी गई है। यह सीट कभी नहीं दी गई है। इससे बच्चों के साथ सफर करने वाली माताओं को नैपी बदलने में दिक्कत नहीं होगी। इसके अलावा टॉयलेट के इंटीरियर में भी कई चेंज किए गए हैं।

– हमसफर एक्सप्रेस के कोचों को आधुनिक बनाते हुए हर सीट के लिए अलग रीडिंग लाइट दी गई है। ताकि यात्री को सफर में रात में पढ़ने में कोई दिक्कत न हो। इसके अलावा कुल 6 मोबाइल चार्जर दिए गए हैं। पहले सिर्फ एक चार्जिंग प्वाइंट होता है। 6 चार्जिंग प्वाइंट में से 4 यूएसबी चार्जर प्वाइंट है। साइड अपर और साइड लोवर सीट में भी अलग-अलग चार्जिंग प्वाइंट दिए गए हैं।

– रेलवे के कर्मचारी द्वारा वीडियो में बताया कि साइड लोवर सीट में अक्सर लोगों को शिकायत रहती है, क्योंकि वह सीट बीच से अलग-अलग रहती थी। जिससे लोगों को सोने में दिक्कत होती थी। इसे ध्यान में रखते हुए एक सीट अलग से लगाई गई है ताकि यात्री को पूरा कम्फर्ट फील हो। इसके अलावा अपर और मिडिल बर्थ पर चढ़ने के लिए लगाई गई सीढ़ियों को भी पहले से ज्यादा स्टाइलिश बनाया गया है।

– कोच के अंदर डिस्प्ले सिस्टम भी दिया गया है। जिस पर आपको पता चलता रहेगा कि आगे कौन-सा स्टेशन आने वाला है। यह जीपीएस सिस्टम से कनेक्टेड है। सीटों को आरामदायक बनाया गया है। इसके अलावा इसमें हर एक रैक में डेस्टबिन दिया गया जो कि पहले किसी भी ट्रेन में नहीं दी गई है। ताकि लोग सीट के नीचे कचरा फेंकने की जगह डस्टबिन में कूड़ा डाले।

– कोच में मौजूद पैट्री कार को बेहतर तरह से मोडिफाई किया गया है। इसमें कॉफी मशीन लगाई गई है। इसके अलावा खाना गर्म करने के लिए हॉटकेस और फ्रिजर की भी व्यवस्था की गई है।

 

रेलवे 'विकल्प स्कीम': 1 अप्रैल से देश भर में लागू होगी सुविधा, जानें जरुरी बातें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग