ताज़ा खबर
 

टाटा समूह को एयरलाइन कारोबार में बड़ा घाटा, पहले ही साल लगी 400 करोड़ से ज्‍यादा की चपत

विस्तारा एयरलाइन टाटा संस और सिंगापुर एयरलाइन्स का संयुक्त उद्यम है जिसने जनवरी 2015 में अपनी उड़ान शुरु की थी।
विस्तारा एयरलाइंस। (फाइल फोटो)

टाटा समूह की एयरलाइन कंपनी विस्तारा को पहले ही साल वित्त वर्ष 2015-16 में 400 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है। कंपनी के प्रबंधन ने बीते जून में टाटा संस के बोर्ड के सामने जो वित्तीय लेखा-जोखा रखा है, उसमें ये बात सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी को ये घाटा रख-रखाव, बिक्री, वितरण और ग्राउंड हैन्डलिंग के मद में हुआ है। विस्तारा एयरलाइन टाटा संस और सिंगापुर एयरलाइन्स का संयुक्त उद्यम है जिसने जनवरी 2015 में अपने उड़ान शुरू की थी। फिलहाल विस्तारा देश भर में 18 जगहों के लिए रोजाना 60 उड़ानें भरता है।

कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2015-16 में 713 करोड़ रुपये कमाए हैं जो प्रोजेक्टेड अमाउंट से 10 फीसदी कम है और खर्च की गई रकम 1113 करोड़ रुपये से भी कम है। कंपनी को इस साल कुल 294 करोड़ रुपये की नकद हानि और 400 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है। हालांकि, तीनों लिस्टेड एयरलाइन्स कंपनियां इंडिगो, जेट एयरवेज और स्पाइस जेट ईंधन खर्च में कटौती की वजह से इस वित्तीय वर्ष में फायदे में रही हैं।

विस्तारा के सीईओ फी थीक यो ने टाटा संस को बताया कि यूनिट कॉस्ट और यूनिट रेवेन्यू के बीच जो घाटा है वह कम है और उसकी भरपाई की जा सकती है। इसके लिए कंपनी के अगले एक -दो साल के अंदर कुछ सुधारात्मक कदम उठाने होंगे। उन्होंने कहा कि कंपनी ने राजस्व बढ़ाने की दिशा में कदम उठाए हैं। इनमें हायर एयरक्राफ्ट यूटिलाइजेशन, इनोवेटिव प्राइजिंग, विदेशी विमानन कंपनियों के साथ साझेदारी वगैरह शामिल हैं। उन्होंने बोर्ड को बताया कि कंपनी में रख रखाव का खर्च ज्यादा था जो कुल खर्च का 14 फीसदी है। इसके अलावा ग्राउंड हैंडलिंग, सेल्स एंड डिस्ट्रीब्यूशन कॉस्ट भी ज्यादा हुई। हालांकि उन्होंने भरोसा जताया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान कंपनी कैश पॉजिटिव हो जाएगी जबकि वित्तीय वर्ष 2020-21 तक कंपनी लाभ में पहुंच जाएगी।

एयर एशिया इंडिया कंपनी प्रबंधन ने भी टाटा संन्स बोर्ड के सामने उसी बैठक में एक प्रेजेंटेशन दिया। कंपनी के सीईओ अमर अब्रोल ने बोर्ड को कंपनी की रणनीति से वाकिफ कराया। अब्रोल ने बताया कि एयर एशिया इंडिया 20 एयरक्राफ्ट खरीदने की योजना पर काम कर रहा है। उन्होंने बताया कि कंपनी पर से बोझ कम करने के लिए भारी भरकम छूट को कम किया गया है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि कंपनी कुछ नए स्थानों के लिए उड़ान सेवा मुहैया कराने की योजना पर काम कर रही है। इनमें 2016-17 वित्तीय वर्ष में कोलकाता, चेन्नई, श्रीनगर शामिल है। जबकि 2018 तक तिरुअनंतपुरम,सूरत, भुवनेश्वर, लखनऊ, रायपुर और पटना के लिए उड़ान शामिल हैं।

वीडियो देखिए- साइरस मिस्त्री को टाटा इंडस्ट्रीज़ के डायरेक्टर पद से हटाया गया; जनरल मीटिंग में हुआ फैसला

वीडियो देखिए- सहारा की फाइल में 100 से ज़्यादा नेताओं के नाम; अधिकारयों का कहना- ‘कुछ पन्ने फर्ज़ी भी हो सकते हैं’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग