January 17, 2017

ताज़ा खबर

 

प्रौद्योगिकी, व्यापार सुगमता से 8 फ़ीसद आर्थिक वृद्धि हासिल करने में मिलेगी मदद: निर्मला

निर्मला ने कहा कि सरकार वृद्धि और निवेश को गति देने के लिए वस्तु एवं सेवा कर, जैम (जनधन, आधार और मोबाइल) तथा व्यापार सुगमता पर काम कर रही है।

Author नई दिल्ली | October 6, 2016 14:29 pm
नई दिल्ली में सीआईआई और विश्व आर्थिक मंच द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित भारत आर्थिक शिखर सम्मेलन को पहले दिन संबोधित करतीं वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमन। (PTI Photo by Shahbaz Khan/6 Oct, 2016/File)

सरकार ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को कहा कि प्रौद्योगिकी के उपयोग, पारदर्शी प्रक्रिया और व्यापार सुगमता से भारत को अगले एक-दो साल में 8.0 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर हासिल करने में मदद मिलेगी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा कि केंद्र इस संदर्भ में राज्यों के साथ मिलकर काम कर रहा है। उद्योग मंडल सीआईआई और विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित भारत आर्थिक शिखर सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘यह (आठ प्रतिशत वृद्धि दर) हासिल किया जा सकता है और सरकार इस प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है….।’ मंत्री के अनुसार जिन मुद्दों और कठिनाइयों को दूर करने के लिए केंद्र और राज्यों को साथ मिलकर काम करने की जरूरत है, उसको लेकर जागरुकता बढ़ी है और इससे राजनीतिक रूप से भी लाभ हो रहा है। उन्होंने कहा, ‘….जिस प्रकार के मुद्दों पर हमें साथ आना है और कठिनाइयों से पार पाना है, उससे वास्तव में राजनीति को लाभ हो रहा है। अगर आप इन बाधाओं को दूर करने में सफल होते हैं और अगर आप प्रौद्योगिकी का उपयोग कर आगे बढ़ने को लेकर प्रतिबद्ध हैं, पारदर्शी प्रक्रिया सुनिश्चित कर रहे हैं, तो मैं आठ प्रतिशत वृद्धि को लेकर आशान्वित हूं…।’

निर्मला ने कहा कि सरकार वृद्धि और निवेश को गति देने के लिए तीन महत्वपूर्ण चीजों….वस्तु एवं सेवा कर, जैम (जनधन, आधार और मोबाइल) तथा व्यापार सुगमता पर काम कर रही है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार खत्म करने और पारदर्शिता लाने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रही है। उन्होंने कहा, ‘हमें कड़ी मेहनत करने और राज्यों को साथ लेकर काम करने की जरूरत है। हम साथ मिलकर काम कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘अगले चार-पांच महीनों में हमारा ध्यान उनके साथ मिलकर काम करने पर होगा, उन सभी को साथ लेने पर होगा जो बाधा खड़ी करते हैं और यह सुनिश्चित करना है कि कंपनियां वाकई में यह महसूस करे कि वास्तव में व्यापार करना सुगम हुआ है।’ निर्मला ने कहा, ‘एफडीआई आ रहा है लेकिन हमें उसे सार्थक निवेश में बदलना है और तेजी से उसके जरिये रोजगार सृजन करना है….ये सब चीजें हें जिस पर हम काम कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया दुनिया के लिए वृद्धि का इंजन बनने जा रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 6, 2016 2:29 pm

सबरंग