December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

टाटा केमिकल्स के निदेशक भास्कर भट्ट ने इस्तीफा दिया

निदेशक मंडल में स्वतंत्र निदेशकों द्वारा चेयरमैन के तौर पर साइरस मिस्त्री का एकमत से समर्थन करने पर टाटा केमिकल्स के निदेशक भास्कर भट्ट ने निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया।

साइरस मिस्त्री को 24 अक्टूबर 2016 को रतन टाटा ने हटा दिया था। (Express photo: Nirmal Harindran/File)

निदेशक मंडल में स्वतंत्र निदेशकों द्वारा चेयरमैन के तौर पर साइरस मिस्त्री का एकमत से समर्थन करने पर टाटा केमिकल्स के निदेशक भास्कर भट्ट ने निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया। भट्ट ने कहा कि उन्होंने जो मुद्दे उठाS उनको पूरी तरह से नजरंदाज किया गया। टाटा केमिकल्स ने बंबई शेयर बाजार को भेजी जानकारी में कहा, ‘भास्कर भट्ट, कंपनी के गैर-कार्यकारी, गैर-स्वतंत्र निदेशक ने 10 नवंबर 2016 से कंपनी के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया।’भट्ट ने अपने त्यागपत्र में कहा, ‘स्वतंत्र निदेशकों द्वारा बीएसई की वेबसाइट पर डाले गये वक्तव्य को मैंने अभी अभी पढ़ा है। इस वक्तव्य में मैंने आज बोर्ड की बैठक में जो मुद्दे उठाये थे उन्हें पूरी तरह से नजरंदाज किया गया है। विशेषकर मैंने कंपनी के समक्ष मौजूदा खतरे के बारे में बताया कि टाटा केमिकल्स के चेयरमैन में कंपनी के प्रवर्तक टाटा संस ने विश्वास खो दिया है।’उन्होंने कहा, ‘‘कई महत्वपूर्ण मुद्दे जो मैंने उठाये उन्हें पूरी तरह से नकार दिया गया। इसलिये मैं टाटा केमिकल्स के निदेशक के तौर पर अपना इस्तीफा दे रहा हूं।’’

वीडियो: साइरस मिस्त्री ने टाटा संस पर लगाई आरोपों की झड़ी; कहा- ‘नैनो बंद होनी चाहिए’

टाटा केमिकल्स के स्वतंत्र निदेशकों ने कल एकमत से कंपनी के चेयरमैन के तौर पर साइरस मिस्त्री का समर्थन किया था और प्रबंधन में अपना विश्वास जताया था। गौरतलब है कि 24 अक्टूबर 2016 को रतन टाटा ने साइरस मिस्त्री को हटाया था। साइरस की जगह रतन फिर से कंपनी के चेयरमैन बने थे। मिस्त्री को वर्ष 2011 में कंपनी में चेयरमैन रतन टाटा का उत्तराधिकारी चुना गया था और उन्हें पहले डिप्टी चेयरमैन बनाया गया। टाटा संस के चेयरमैन पर दर मिस्त्री का चुनाव पांच सदस्यीय एक समिति ने किया था।

मिस्त्री ने रतन टाटा के 75 वर्ष की आयु पूरी करने पर उनकी सेवानिवृत्त के बाद 29 दिसंबर 2012 को चेयरमैन का पद भार संभाला था। मिस्त्री वर्ष 2006 से कंपनी के निदेशक मंडल में शामिल रहे हैं। कंपनी के सबसे बड़े हिस्सेदार शापूरजी पालोनजी ने कंपनी के चेयरमैन पद के लिए उनके नाम की सिफारिश की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 2:18 pm

सबरंग