December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

शेयर बाजारों में 4 दिन की तेज़ी थमी, सेंसेक्स 93 अंक टूटा

पचास शेयरों वाला एनएसई निफ्टी भी 31.60 अंक या 0.38 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,192.90 अंक पर बंद हुआ।

Author मुंबई | December 1, 2016 19:51 pm
शेयर बाजार (फाइल फोटो)

शेयर बाजारों में चार दिन की तेजी पर गुरुवार (1 दिसंबर) को विराम लग गया। देश के मिले-जुले ताजा वृहत आर्थिक आंकड़े के जारी होने के बीच विदेशी निवेशकों की ओर से पूंजी निकासी का सिलसिला जारी रहने से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 93 अंक टूटकर 26,559 अंक पर बंद हुआ। नवंबर के विनिर्माण क्षेत्र के पीएमआई की रपट में गिरावट से भी बाजार की धारणा प्रभावित हुई। नकदी की कमी से घरेलू खपत, वस्तुओं का उत्पादन तथा नये ऑर्डर प्रभावित होने से नवंबर के पीएमआई पर असर पड़ा है। तीस शेयरों वाला सूचकांक बढ़त के साथ खुला और कारोबार के दौरान 26,769.32 और 26,540.82 अंक के दायरे में रहा। अंत में यह 92.89 अंक या 0.35 प्रतिशत की गिरावट के साथ 26,559.92 अंक पर बंद हुआ। पचास शेयरों वाला एनएसई निफ्टी भी 31.60 अंक या 0.38 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,192.90 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 8,250.80 से 8,185.05 अंक के दायर में रहा।

जियोजीत बीएनपी परिबा फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य बाजार रणनीतिकार आनंद जेम्स ने कहा, ‘तेल के दाम में तेजी से शेयर बाजार में अच्छी शुरुआत के बाद कारोबारियों ने शुक्रवार से तेजी को देखते हुए स्थानीय बाजार में मुनाफावसूली का विकल्प चुना। नवंबर में पीएमआई आंकड़ा कमजोर होने से भी असर पड़ा।’ उन्होंने कहा कि अमेरिका में रोजगार के मजबूत आंकड़े से दिसंबर में वहां ब्याज दर बढ़ने की संभावना बढ़ी है। इससे एफआईआई की निकासी और बढ़ सकती है। बाजार में शुरू में मजबूत जीडीपी आंकड़े का असर पड़ा। बुधवार (30 नवंबर) शाम जारी आंकड़े के अनुसार देश की आर्थिक वृद्धि दर सितंबर तिमाही में 7.3 प्रतिशत रही। हालांकि निक्की इंडिया मैन्यूफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) नवंबर में घटकर 52.3 रहा जो अक्तूबर में 22 महीने के उच्च स्तर 54.4 था। पीएमआई विनिर्माण क्षेत्र के प्रदर्शन को बताता है।

धातु, बिजली, बैंक, रीयल्टी तथा दूरसंचार कंपनियों के शेयर गुरुवार को अधिक नुकसान में रहे जबकि स्वास्थ्य तथा रोजमर्रा के उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों के शेयर लाभ में रहे। ओपेक के आठ साल में पहली बार तेल उत्पादन में कटौती के समझौते के बाद एशिया के अन्य बाजरों में मजबूत रुख देखने को मिला। ओपेक के निर्णय से तेल कीमतों में करीब 10 प्रतिशत कह मजबूती आयी। वैश्विक स्तर पर प्रमुख सूचकांक जापान के निक्की, शंघाई कंपोजिट सूचकांक तथा हांगकांग के हैंगसेंग में बढ़त रही। यूरोप के प्रमुख बाजारों में पेरिस, जर्मनी तथा लंदन के बाजारों में तेजी रही। घरेलू बाजार में सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 15 नुकसान में शेष 15 लाभ में रहे। नुकसान में रहने वाले प्रमुख शेयरों में पावर ग्रिड (3.96 प्रतिशत), एशियन पेंट्स (3.18 प्रतिशत), टाटा मोटर्स (2.44 प्रतिशत), महिंद्रा एंड महिंद्रा (2.44 प्रतिशत) तथा आईसीआईसीआई बैंक (2.13 प्रतिशत) तथा एसबीआई (1.03 प्रतिशत) शामिल हैं। हालांकि गेल (2.87 प्रतिशत), सन फार्मा (1.62 प्रतिशत), हीरो मोटो कॉर्प (1.45 प्रतिशत), डॉ. रेड्डीज (1.29 प्रतिशत), ओएनजीसी (1.11 प्रतिशत), एचडीएफसी (0.71 प्रतिशत) तथा ल्यूपिन (0.67 प्रतिशत) में गिरावट रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on December 1, 2016 7:51 pm

सबरंग