ताज़ा खबर
 

टाटा समूह-मिस्त्री विवाद के खुलासों पर सेबी की कड़ी निगाह

टाटा संस ने 24 अक्तूबर को मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटा दिया था। इसके बाद से ही दोनों पक्षों में आरोप प्रत्यारोप चल रहे हैं।
Author नई दिल्ली | November 14, 2016 21:27 pm
भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड। (SEBI File Photo)

टाटा-मिस्त्री विवाद के गहराने से सामने आ रहे खुलासों व घटनाओं पर बाजार नियामक सेबी की कड़ी निगाह है। सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) टाटा समूह की सूचीबद्ध कंपनियों की बोर्ड बैठकों के ब्यौरों व इस खींचतान में किए जा रहे अन्य खुलासों पर करीबी निगाह रखे हुए है। सेबी चाहता है कि इस मामले में कंपनी संचालन से जुड़े नियमों का उल्लंघन नहीं हो और निवेशकों के हितों की रक्षा हो। इस बारे में उसे विदेशी संस्थागत निवेशकों के साथ साथ विभिन्न भागीदारों से ज्ञापन आदि मिले हैं। टाटा समूह की विभिन्न कंपनियों के बोर्ड में नियंत्रण को लेकर जारी खींचतान के बीच सेबी की स्वतंत्र निदेशकों तथा गैर कार्यकारी निदेशकों की भूमिका पर निगाह है।

उल्लेखनीय है कि समूह की अंशधारक कंपनी टाटा संस चाहती है कि साइरस मिस्त्री को इन कंपनियों के चेयरमैन पद से हटाया जाए। इसके लिए उसने इन कंपनियों से शेयरधारकों की विशेष आम बैठकें बुलाने को कहा है। टाटा समूह की दो दर्जन से भी अधिक कंपनियां सूचीबद्ध हैं। सेबी यहां अल्पांश शेयरधारकों हितों की रक्षा व कंपनी संचालन नियमों का पालन सुनिश्चित करने पर ध्यान दे रहा है। उल्लेखनीय है कि टाटा संस ने 24 अक्तूबर को मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटा दिया था। इसके बाद से ही दोनों पक्षों में आरोप प्रत्यारोप चल रहे हैं। मिस्त्री समूह की अनेक कंपनियों के बोर्डों की बैठकों की अध्यक्षता भी कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग