ताज़ा खबर
 

प्लेन में परिवार के साथ बैठना है तो देना होगा अतिरिक्त चार्ज

फैमिली फी कहा जाने वाला यह चार्ज दुनियाभर में तो आठ साल पहले से लागू है, लेकिन अब इसने भारत में भी दस्तक दे दी है।

एयरलाइंस कंपनियों के विज्ञापन में भले ही परिवार को खास अहमियत दी जाती हो, लेकिन अब इन कंपनियों ने परिवारों के जरिए ही अपनी कमाई में और इजाफा करने का रास्ता खोज लिया है। एयरलाइंस इंडस्ट्री अब एक साथ बैठने की इच्छा रखने वाले परिवार के सदस्यों से पैसे वसूलना शुरू करने वाली है। सीट सिलेक्शन फी या फैमिली फी कहा जाने वाला यह चार्ज दुनियाभर में तो आठ साल पहले से लागू है, लेकिन अब इसने भारत में भी दस्तक दे दी है। जहां एयरइंडिया ने यह फीस इस साल मई माह में ही लागू कर दी थी, वहीं जेट एयरवेज जैसी प्राइवेट एयरलाइंस कंपनियो ने हाल ही में इसे शुरू किया है।

एयरइंडिया में वर्तमान में, तीन लोगों के एक परिवार को मुंबई से लंदन की एकतरफा यात्रा में एक साथ बैठने के लिए 9,000 रुपए अतिरिक्त देने होते हैं। वहीं, जेट एयरवेज पर इसके लिए 4,500 रुपए देने होंगे। यदि बल्कहेड/एक्जिट रो सीट को चुना, तो यह फीस बढ़कर 10,500 रुपए तक जा सकती है। इतना ही नहीं, मिडल सीट के लिए भी चार्ज लिए जाएगा। 12 दिसंबर को इस संबध में सभी ट्रैवल एजेंट्स को सर्कुलर जारी किया गया है। इसमें सीट सलेक्शन फीस के चार्ट को विस्तृत रूप से लिस्टेड किया गया है। चार्ट में ना सिर्फ यात्रा की जगह बल्कि यात्रा की महीने और तारीख के हिसाब से अलग-अलग फीस रखी गई है।

एक विमानन सलाहकार ने कहा कि भारत से मिडल ईस्ट और एशियाई देशों के बीच की उड़ानों में हाई सेशन, पीक सेशन और अन्य महीनों की कैटेगरी बनाई गई है। इससे पता लगता है कि जब सामान की फीस और कैंसिलेशन फीस से होने वाली कमाई में गिरावट हुई, तो विमानन कंपनियों ने सीट सलेक्शन फीस को बढ़ा दिया। दरअसल इस साल भारतीय एविएशन रेगुलेटर DGCA ने बैगेज और कैंसिलेशन फीस पर नियम कड़े कर दिए थे। जिसके बाद एयरलाइंस ने मुनाफा में इजाफे के लिए सीट सलेक्शन फीस को शुरू कर दिया।

अब कैश नहीं चेक या अकाउंट में ही आएगी सैलरी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग