December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

सीफूड खाने वालों के लिए नार्वे की सैमन मछली को देसी तड़का

सीफूड के प्रशसंकों के लिए अच्छी खबर है कि अब वे चर्चित सैमन मछली का स्वाद यहां भारत में चख सकते हैं और वह भी ‘अमृतसरी तवा सैमन’ तथा ‘बंगाली योगर्ट मस्टर्ड सैमन’ जैसे विशुद्ध भारतीय व्यंजनों के रूपों में

Author मुंबई | November 29, 2016 14:03 pm
(Reuters)

सीफूड के प्रशसंकों के लिए अच्छी खबर है कि अब वे चर्चित सैमन मछली का स्वाद यहां भारत में चख सकते हैं और वह भी ‘अमृतसरी तवा सैमन’ तथा ‘बंगाली योगर्ट मस्टर्ड सैमन’ जैसे विशुद्ध भारतीय व्यंजनों के रूपों में। सैमन उत्तरी अटलांटिक व प्रशांत महासागर के ठंडे पानी में होने वाली विशेष मछली है और नार्वे, चिली व कनाडा जैसे देशों में सीफूड का अभिन्न व महत्वपूर्ण हिस्सा है। नार्वे अब भारत में इसके निर्यात को बढावा देने की कोशिश कर रहा है क्योंकि यह बड़ा बाजार है। नार्वेइन सीफूड काउंसिल के निदेशक (भारत) योगी शेरगिल ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘सैमन की भारतीय खपत 2015 में 450 टन रही जो कि जनसंख्या को देखते हुए तुलनात्मक रूप से बहुत कम है।’

क्या मछली खाने वाले भारतीयों में सैमन की मांग बढ़ने की उम्मीद है, यह पूछे जाने पर शेरगिल ने कहा कि इस देश मे हर साल 92 लाख टन सीफूड की खपत होती है जिसमें से आधा हिंद महासागर से जबकि शेष ताजे पानी में किए जाने वाली मछली पालन से आता है। इस खपत में बीते 15 साल में छह गुना वृद्धि हुई है और ‘हमें उम्मीद है कि यह रुख बना रहेगा।’

उन्होंने कहा,‘ हमारा मानना है कि दीर्घकालिक स्तर पर भारत में आयातित सीफूड की व्यापक संभावना है। इसकी एक वजह भारत में युवा जनसंख्या भी है जो स्वास्थ्य को लेकर बहुत जागरच्च्क है और नये नये व्यंजनों को चखना चाहती है।’ उन्होंने कहा, हमारा मानना है कि अभी जमीन तैयार करने से हमें आगे चलकर फायदा होगा।’ उल्लेखनीय है कि नार्वे के वाणिज्य दूत तोर्बजेोन होल्थे ने हाल ही में मुंबई में एक प्रदर्शनी भी आयोजित की जिसमें लोगों को नार्वेे की सैमन से बने स्वादिष्ट व्यंजनों को चखने का मौका मिला था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 29, 2016 2:03 pm

सबरंग