December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

देश की सबसे लंबी LPG पाइपलाइन का इस्तेमाल करना चाहती है रिलायंस इंडस्ट्रीज

आईओसी ने गुजरात के कांडला में एलपीजी का आयात करके उसे इस 1987 किलोमीटर की पाइपलाइन के जरिये गोरखपुर तक पहुंचाने की योजना बनायी है।

Author नई दिल्ली | November 27, 2016 20:50 pm
रिलायंस इंडस्ट्रीज।

रिलायंस इंडस्ट्रीज गुजरात से पूर्वी उत्तर प्रदेश के गोरखपुर तक बिछाई जाने वाली देश की सबसे लंबी एलपीजी पाइपलाइन का इस्तेमाल करना चाहती है। यह पाइनलाइन सरकारी क्षेत्र की कंपनी इंडियन आयल कोरपॉरेशन (आईओसी) बिछा रही है ताकि क्षेत्र में रसोई गैस की बढती मांग को पूरा करने में आसानी हो। आईओसी ने गुजरात के कांडला में एलपीजी का आयात करके उसे इस 1987 किलोमीटर की पाइपलाइन के जरिये गोरखपुर तक पहुंचाने की योजना बनायी है। इसके रास्ते में अहमदाबाद, उज्जैन, भापाल, कानपुर, इलाहाबाद, वाराणसी तथा लखनऊ जैसे बड़े शहर पड़ेगें। पेट्रोलियम उत्पादों के खुदरा बाजार के नियामक पीएनजीआरबी को आईओसी के प्रस्ताव पर अपनी टिप्पणी में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कहा है कि वह इस पाइपलाइन के सेवा क्षेत्र में पड़ने वाले इलाकों में अपनी खुद की मांग को पूरा करना चाहती है और वह इस पाइपलाइन की क्षमता का खुद भी प्रयोग करना चाहती है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कहा कि वह अपनी एलपीजी को इस पाइपलाइन के जरिये दूरदराज के क्षेत्रों तक पहुंचाना चाहती है। उसकी एलपीजी संभवत: गुजरात की जामनगर रिफाइनरी में उत्पादित होगी।

इस पाइपलाइन की सालाना परिवन क्षमता 37.5 लाख टन एलपीजी होगी। आईओसी ने इसको बिछाने के लिए पीएनजीआरबी से अनुमति मांगी है। प्रस्ताव है कि इसकी एक चौथाई क्षमता का इस्तेमाल अन्य पक्ष भी कर सकेंगे। रिलायंस इसके जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में एलपीजी पहुंचाना चाहती है। गौरतलब है कि सरकार पर्यावरण और स्वास्थ्य के मद्देनजर ग्रामीण इलाकों में रसोईं गैस वितरण सुविधा पर विशेष बल दे रही है। रिलायंस का कहना है कि वह ग्रामीण क्षत्र के बाजार में प्रतिस्पर्धा करना चाहेगी। आरआईएल ने नियामक को लिखा है कि इस पाइपलाइन के साथ बीच बीच में आईओसी द्वारा बनी जाने वाली गैर भंडारण सुविधाओं का भी इस्तेमाल करना चाहेगी। ऐसे केंद्रों से ही गैस को एलपीजी सिलेंडर भरने वाले संयंत्रों तक पहुंचाया जाएगा। इस समय गेल की जामनगर-लोनी (उत्तर प्रदेश) पाइपलाइन सबसे बड़ा नेटवर्क है। इसकी लंबाई 1415 किलो मीटर है और क्षमता 25 लाख टन एलपीजी की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 27, 2016 8:50 pm

सबरंग