December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

आज से बैंकों, डाकघरों में बदले जाएंगे नोट, कल तक इन जगहों पर चला भी सकते हैं 1000-500 के नोट

बैंक और पोस्ट ऑफिस में नए नोट गुरुवार से मिलने शुरू हो जाएंगे। इसके अलावा घोषणा की गई है कि इस हफ्ते शनिवार और रविवार के दिन भी बैंक खुलेंगे।

Author November 10, 2016 08:48 am
सांकेतिक तस्वीर।

बाजार में 500 और 1000 रुपए के नोटों का चलन बंद करने के बाद सरकार ने बुधवार को कहा कि बैंक और पोस्ट ऑफिस में नए नोट आज (गुरुवार) से मिलने शुरू हो जाएंगे। इसके अलावा घोषणा की गई है कि इस हफ्ते शनिवार और रविवार के दिन भी बैंक खुलेंगे। इसके साथ ही सरकार ने कुछ और सार्वजनिक सुविधा केंद्रों पर पुराने नोटों के प्रयोग को जारी रखने की छूट दी है। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि प्रचलन से बाहर किए गए पुराने नोटों की जगह नए नोटों की पूरी भरपाई करने में दो से तीन हफ्तों का समय लग जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘यह काम कल (गुरुवार) सुबह से शुरू हो जाएगा।’

बैंकों ने बढ़ाए काम के घंटे:

बैंकों से कहा गया है कि वे शनिवार और रविवार पूरे दिन अपनी शाखाएं खुली रखें ताकि लोगों को पुराने नोट जमा कराने में दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े। इसके अलावा कई बैंकों ने ग्राहकों की भारी भीड़ की आशंका के मद्देनजर बैंक अगले तीन दिनों तक रात 9 बजे तक काम करने का फैसला किया है। बैंक कर्मियों को अगले एक महीने के लिए अतिरिक्त अवकाश नहीं लेने की भी सलाह दी गई है। इस दौरान सरकार ने 22 अरब करेंसी नोटों के धारकों को इन्हें बैंक खातों में जमा करने को कहा है।

पेट्रोलियम मंत्री ने दी चेतावनी- पेट्रोल पंपों ने नहीं लिए 500, 1000 के नोट तो लेंगे एक्‍शन

फिलहाल इन जगहों पर चला सकते नोट:

अब 11 नवंबर की मध्यरात्रि तक मेट्रो रेल, राजमार्गों पर टोल के भुगतान, डॉक्टरों के पर्चों पर सरकारी और निजी दवा की दुकानों से दवाओं की खरीद, रेलवे कैटरिंग, पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के नियंत्रण में चलने वाले स्मारकों के टिकट और एलपीजी गैस सिलेंडर बुकिंग केंद्रों पर भी पुराने नोटों को स्वीकार किया जाएगा। सरकार ने इससे पहले सरकारी अस्पतालों, रेलवे टिकट खिड़कियों, सार्वजनिक परिवहन, हवाईअड्डों पर टिकट काउंटर, दूध केंद्रों, श्मशान एवं कब्रिस्तान और पेट्रोल पंपों पर पाबंदी शुरू होने से 72 घंटे तक पुराने नोटों को स्वीकार किए जाने की अनुमति दी थी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 10, 2016 8:43 am

सबरंग