ताज़ा खबर
 

जल्द आने वाले हैं 6-सीरीज वाले मोबाइल नंबर, ऐसा करने वाली पहली कंपनी बनेगी रिलायंस जियो

रिपोर्ट के मुताबिक, 9, 8 और 7-सीरीज वाले मोबाइल नंबर्स खत्म होने की कगार पर हैं
जियो सिम, सांकेतिक तस्वीर।

अभी तक आपने 9, 8 और 7-सीरीज से शुरू होने वाले मोबाइल नंबर देखे और इस्तेमाल किए होंगे, लेकिन जल्द ही 6-सीरीज वाले मोबाइल नंबर आने वाले हैं। खबर है कि मुकेश अंबानी की टेलिकॉम कंपनी रिलायंस जियो ने 6-सीरीज वाले मोबाइल नंबर्स एलॉट करने की परमिशन ले ली है। कंपनी को यह परमिशन डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकॉम (DoT) ने जारी की है, इसके लिए कंपनी को 6-सीरीज वाले मोबाइल स्विचिंग कोड (MSC) दिए गए हैं। इसके बाद, रिलायंस जियो देश की ऐसी पहली कंपनी होगी जो 6 से शुरू होने वाले मोबाइल नंबर देगी।

भारतीय टेलिकॉम पोर्टल Telecom Talk की रिपोर्ट के मुताबिक, DoT ने 6-सीरीज वाले MSC कोड असम, राजस्थान और तमिलनाडु में जारी किए हैं। जानकारी के मुताबिक, राजस्थान के लिए 60010-60019, असम के लिए 60020-60029 और तमिलनाडु के लिए 60030-60039 MSC कोड दिया गया है। मध्य प्रदेश और गुजरात के लिए कंपनी को 7-सीरीज कोड और कोलकाता व महाराष्ट्र के लिए 8-सीरीज कोड दिए गए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा कंपनी के 10 लाख नए ग्राहकों को जोड़ने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए किया गया है। भारतीय टेलिकॉम इंडस्ट्री में अभी तक 9, 8 और 7 सीरीज वाले मोबाइल नंबर दिए जा रहे हैं। फ्री डेटा और वॉयस ऑफर्स के साथ बाजार में एंट्री करने वाली रिलायंस जियो के आने से बड़ी संख्या में मोबाइल नंबर खरीदे गए हैं। ऐसे में 9, 8 और 7-सीरीज वाले मोबाइल नंबर्स खत्म होने की कगार पर हैं।

टेलिकॉम रेगूलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया के आंकड़ों के मुताबिक, नवंबर 2016 तक भारतीय सब्सक्राइबर्स का बेस 2.1 करोड़ बढ़ोतरी के साथ 112 करोड़ हो गया है। इसका अधिकतम श्रेय रिलायंस जियो को जाता है। 5 सितंबर को अपनी कमर्शियल शुरुआत करने वाली रिलायंस जियो ने 31 दिसंबर तक 7.2 लाख सब्सक्राइबर्स कर लिए थे। वहीं, इससे पहले कंपनी ने सिर्फ 83 दिनों में 5 लाख सब्सक्राइबर्स का आंकड़ा छू लिया था।

एक ऐसा एंडॉयड ऐप जो बताएगा, आखिरी बार किसने किया था आपके फोन का इस्तेमाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.