December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

500, 1000 के नोट बंद करने के बाद 20 प्रतिशत तक टूटे रियल स्टेट कंपनियों के शेयर

सरकार द्वारा कालेधन पर अंकुश के लिए कल कड़े उपायों की घोषणा से आज शेयर बाजारों में शुरुआती कारोबार में रीयल्टी कंपनियों के शेयरों को जोरदार झटका लगा।

Author नई दिल्ली | November 9, 2016 11:58 am

सरकार द्वारा कालेधन पर अंकुश के लिए कल500 और 1000 के पुराने नोटों को बंद करने के कड़े उपायों की घोषणा से आज शेयर बाजारों में शुरुआती कारोबार में रीयल्टी कंपनियों के शेयरों को जोरदार झटका लगा। रीयल्टी कंपनियों के शेयर 20 प्रतिशत तक टूट गए। यूनिटेक और डीएलएफ जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में सबसे अधिक गिरावट आई। कारोबार के पहले घंटे में बंबई शेयर बाजार का रीयल्टी सूचकांक करीब 11 प्रतिशत टूटकर 1,314.97 अंक पर आ गया। यूनिटेक का शेयर 20 प्रतिशत नीचे आ गया। डीएलएफ में 13 प्रतिशत तक की गिरावट आई। हालांकि बाद में यह कुछ सुधरा।

यूनिटेक का शेयर 4.75 रुपए पर कारोबार कर रहा था। डीएलएफ का शेयर 126 रुपए पर आ गया। अन्य कंपनियों में प्रेस्टीज एस्टेट्स प्रोजेक्ट्स का शेयर 17 प्रतिशत के नुकसान से 153.25 रुपए, शोभा डेवलपर्स 11 प्रतिशत टूटकर 240 रुपए और गोदरेज प्रापर्टीज 7 प्रतिशत के नुकसान से 333 रुपए पर आ गया।


शुरुआती कारोबार में बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 1,500 अंक से अधिक नीचे आ गया था। हालांकि बाद में यह कुछ सुधरकर अब 660 अंक की गिरावट के साथ 26,928.70 अंक पर कारोबार कर रहा था। कालेधन के खिलाफ अभियान के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल रात 500 और 1,000 के नोटों को बंद करने की घोषणा की।

वीडियो: 500 और 1000 के नोट बंद, क्या होगा इसका असर?

इनके स्थान पर पूरी तरह नए डिजाइन के 500 और 2,000 नोट के जारी किए जाएंगे। विशेषज्ञों का मानना है कि 1,000 और 500 के नोट को बंद करने से असंगठित क्षेत्र के बिल्डर तथा रीसेल प्रापर्टी बाजार बुरी तरह प्रभावित होगा। इससे मकानों के दाम नीचे आ सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 11:21 am

सबरंग