ताज़ा खबर
 

नोटबंदी: बैंकों में नोट पहुंचाने के लिए ली एयरफोर्स की मदद, एयरलिफ्ट किया गया पैसा

वायुसेना के ट्रांसपोर्ट विमान ग्लोब मास्टर के जरिए प्रिंटिंग प्रेस से नोट बैंक पहुंचाने की कोशिश की गई है।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

देशभर में नोट बंदी किए जाने और उसके बाद बैंकों में नोट की कमी पड़ जाने के बीच सरकार ने आम लोगों को राहत देने के लिए बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत बैंकों में नोट पहुंचाने के लिए एयरफोर्स की मदद ली गई है। इसके लिए विमान ग्लोब मास्टर का इस्तेमाल किया गया है। यह फैसला बैंकों में कैश की किल्लत के चलते लिया गया है। जानकारी के मुताबिक, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने झारखंड के बोकारो शहर में एटीएम और बैंकों को हेलिकॉप्टर से पैसे की सप्लाई की। वायुसेना के ट्रांसपोर्ट विमान ग्लोब मास्टर के जरिए प्रिंटिंग प्रेस से नोट बैंक पहुंचाने की कोशिश की गई है। सोमवार को कई राज्यों में गुरुपर्व के चलते बैंक बंद हैं। इन बैंकों में मंगलवार से ग्राहकों को परेशानी ना हो इसलिए यह इंतजाम किए जा रहे हैं। इसके अलावा एक और बड़े फैसले में आम लोगों की सुविधा के लिए टोल टैक्स को मुफ्त करने का फैसला भी 18 नवंबर तक बढ़ाया गया है। इसके तहत 18 नवंबर तक नेशनल हाइवे के किसी भी टोल पर टैक्स नहीं लिया जाएगा।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को ब्लैक मनी पर “सर्जिकल स्ट्राइक” करते हुए बड़े नोटों को बंद करने का ऐलान किया था। ऐलान के दौरान पीएम ने कहा था कि इस फैसले से जनता को थोड़ी से दिक्कत होगी लेकिन आने वाले समय में इसका बड़ा फायदा मिलेगा। बुधवार 9 नवंबर को देश के सभी बैंक और एटीएम बंद रखे गए थे।

10 नवंबर से बैंकों द्वारा नोट बदले जा रहे हैं और इसके अलावा 11 नंवबर से एटीएम से पैसे निकालने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई थी। तब से लेकर अब तक बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लगी हैं। हालांकि लोगों की सुविधा के लिए बीते हफ्ते शनिवार और रविवार को भी बैंकों में काम जारी रखा गया था। इन सबके बावजूद भी लोगों को पैसे मिलने में दिक्कत हुई। अधिकतर स्थानों पर एटीएम और बैंकों में पैसे खत्म होने से लोगों को मुश्किल का सामना करना पड़ा।

नोटबंदी: अरविंद केजरीवाल, कपिल सिब्बल और अखिलेश यादव ने मोदी सरकार की आलोचना की

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग