ताज़ा खबर
 

आरबीआई ने बैंक ऑफ बड़ौदा पर लगाया पांच करोड़ रुपए का जुर्माना

बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने ग्राहक को जानो (केवायसी) संबंधी नियमों और शर्तों को पूरा किए बिना खाते खोलने की मंजूरी भी दी।
Author नई दिल्ली | July 25, 2016 16:22 pm
बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी)

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पिछले प्रकाश में आए 6,100 करोड़ रुपए के विदेशी मुद्रा भुगतान घोटाले में अनियमितता के मामले में सरकारी क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) पर पांच करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। बीओबी ने बंबई शेयर बाजार को दी गयी एक सूचना में सोमवार (25 जुलाई) को कहा, ‘भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंक ऑफ बड़ौदा पर पांच करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। यह कार्रवाई बैंक ऑफ बड़ौदा की आंतरिक ऑडिट में पाई गई कुछ अनियमितताओं के बारे में बैंक की ओर से भारतीय रिजर्व बैंक और जांच एजेंसियों को दी गई सलाह के बाद की गई है।’

शेयर बाजार को दी गई सूचना के अनुसार, ‘आरबीआई ने उसकी जांच की और कुछ ऐसी खामियों का उल्लेख किया एएमएल (मनी लांडरिंग निरोधक) उन प्रावधानों के संबंध में बैंक की आतंरिक नियंत्रण व्यवस्था की दुर्बलता और विफलता दर्शाती है। इन प्रावधानों में लेन देन के सौदों की निगरानी, वित्तीय आसूचना इकाई (एफआईयू) को समय से सूचना देना और यूसीआईसी (विशिष्ट ग्राक कोड) प्रदान करने संबंधी प्रावधान हैं।’ बैंक ऑफ बड़ौदा ने कहा कि उसने व्यापक सुधारात्मक कार्य योजना लागू की है ताकि आंतरिक नियंत्रण बढ़ाया जा सके और यह सुनिश्चित किया जा सके कि ऐसी घटनाएं फिर न हों।

आरबीआई ने पाया कि बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) ने संदिग्ध हस्तांतरण रपट (एसटीआर) पेश न करने और काफी देरी करने जैसी अनियमितता की। इसके अलावा बैंक ने अपने ग्राहक को जानो (केवायसी) संबंधी नियमों और शर्तों को पूरा किए बिना खाते खोलने की मंजूरी भी दी। यह टिप्पणी आरबीआई द्वारा बैंक ऑफ बड़ौदा की दिल्ली में अशोक विहार शाखा के जरिए आयात के भुगतान के नाम पर कुल 6,100 करोड़ रुपए के बराबर धन विदेश (हांगकांग) भेजे जाने के मामले की जांच के संबंध में है। भुगतान में अनियमितता का यह मामला पिछले साल आया था। सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय इस मामले की जांच कर रहे हैं। इस राशि का हस्तांतरण कथित तौर पर ऐसे आयात की आड़ में किया गया जो कभी हुआ ही नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.