ताज़ा खबर
 

राजधानी, शताब्‍दी, दुरंतो के लिए रेलवे ने शुरू किया फ्लेक्‍सी फेयर सिस्‍टम, जानिए कितना होगा नया किराया

ट्रेनों में फर्स्‍ट एसी और एक्‍जीक्‍यूटिव क्‍लास के वर्तमान किराए में कोई बदलाव नहीं किया गया है।
रेलवे ने कहा है कि नया सिस्‍टम 9 सितंबर से प्रभावी होगा। (Source: PTI)

रेल मंत्रालय ने राजधानी, दुरंतो और शताब्‍दी ट्रेनों के लिए नया फ्लेक्‍सी फेयर सिस्‍टम शुरू किया है। यह सिस्‍टम 9 सितंबर से प्रभावी होगा। मंत्रालय ने एक रिलीज में कहा कि हर 10 फीसदी बर्थ बिकने के बाद आधार किराया 10 प्रतिशत बढ़ जाएगा। हालांकि इसके लिए एक तयशुदा सीलिंग लिमिट रहेगी। राजधानी और दुरंतों ट्रेनों के लिए सीलिंग आधार किराए से डेढ़ गुना ज्‍यादा होगा, जबकि शताब्‍दी ट्रेनों में यह आधार किराए का 1.4 गुना होगी। मंत्रालय के मुताबिक, इन ट्रेनों में फर्स्‍ट एसी और एक्‍जीक्‍यूटिव क्‍लास के वर्तमान किराए में कोई बदलाव नहीं किया गया है। आधार किराए के अतिरिक्‍त रिजर्वेशन चार्ज, सुपरफास्‍ट चार्ज, कैटरिंग चार्ज, सर्विस टैक्‍स जैसे अन्‍य शुल्‍क अलग से वसूले जाएंगे। अगर किसी निचली क्‍लास का किराया ऊपरी क्‍लास के किराए से ज्‍यादा हो जाता है तो यात्री को बुकिंग के समय उच्‍च श्रेणी में यात्रा का विकल्‍प दिया जाएगा।

चार्टिंग के वक्‍त खाली ब‍र्थ को तत्‍काल बुक (करेंट बुकिंग) करने की सुविधा मिलेगी। करेंट बुकिंग के तहत बुक किए गए टिकट उस श्रेणी में बिके आखिरी टिकट के दाम पर बेचे जाएंगे। इसके अलावा रिजर्वेशन चार्ज, सुपरफास्‍ट चार्ज, कैटरिंग चार्ज, सर्विस टैक्‍स जैसे चार्जेस पूरे वसूले जाएंगे। किसी खास ट्रेन के हर क्‍लास के टिकट का आखिरी दाम रिजर्वेशन चार्ज पर प्रिंट किया जाएगा ताकि ट्रेन के किराए में बदलाव पर चार्ज वसूला जा सके। इसका इस्‍तेमाल बिना टिकट ट्रेन में यात्रा कर रहे यात्रियों से जुर्माना वसूलने में भी किया जाएगा। माना जा रहा है कि इससे इन प्रमुख ट्रेनों के किराए में अच्‍छी खासी बढ़ोत्‍तरी देखने को मिल सकती हैं। शताब्‍दी, राजधानी और दूरंतो ट्रेनें देश के प्रमुख शहरों से होकर चलती हैं और इनमें कंफर्म टिकट पाने के लिए मारामारी मची रहती है। ऐसे में रेलवे इसका फायदा उठाकर राजस्‍व बढ़ाने की सोच रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    Nahraf
    Sep 8, 2016 at 11:11 am
    Abki baar baniyon ki bhi baap sarkaar
    (0)(0)
    Reply
    1. Sidheswar Misra
      Sep 8, 2016 at 3:19 am
      अच्छे दिन . हमारे कई मित्र पहले कांग्रेस थे अब बीजेपी हो गए इस लिए की कांग्रेस जन विरोध कार्य कर रही थी वह जब कभी वामपंथी कांग्रेस का योग करते तो उन्हें अपशब्दो से अलंकृत करते . आज बिना लगाम की सरकार चल रही है जनता को मिलने वाली ायतायो में लगातार कटौती जारी है उसी का परिणाम है रेल भाड़े की बढ़ोतरी .यह सब कांग्रेस करना चाहती थी लेकिन लगड़ी थी जो वैशाखी उन उस रास्ते पर जाने से रोकती थी . अब डाटा सस्ता आटा महंगा , शुद्ध पानी महंगा २० रु बोतल रेल में दाम छपा होगा १५रु दाम से जादा किसकी जेब में ?
      (0)(0)
      Reply
      सबरंग