ताज़ा खबर
 

RBI गवर्नर रघुराम राजन ने कहा- सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था की ‘खुशफहमी’ से बचे

रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि ब्रिक्स देशों में भारतीयों की प्रति व्यक्ति आय अभी भी सबसे कम है।
Author पुणे | April 20, 2016 18:03 pm
राजन ने यह कहकर एक तरह से भारत के बारे में अपनी ‘अंधों में काना राजा’ की टिप्पणी को सही ठहराने का प्रयास किया है। (file photo)
भारत को दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था का तमगा मिलने से उपजे ‘खुशफहमी’ के प्रति आगाह करते हुए रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने इससे बचने की सलाह दी है। बुधवार को उन्होंने कहा कि देश को तय मुकाम पर पहुंचने का दावा करने से पहले अभी लंबा सफर तय करना है।
राजन ने यह कहकर एक तरह से भारत के बारे में अपनी ‘अंधों में काना राजा’ की टिप्पणी को सही ठहराने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा, ‘‘केंद्रीय बैंकर को व्यावहारिक होना होता है, और मैं इस उन्माद का शिकार नहीं हो सकता कि भारत सबसे तेजी से वृद्धि दर्ज करने वाली विशाल अर्थव्यवस्था है।’’ अपनी ‘अंधों में काना राजा’ टिप्पणी को स्पष्ट करते हुए राजन ने कहा कि उनकी टिप्पणियों को बेवजह अलग-थलग करके देखा गया और उन्होंने दृष्टिहीनों से माफी भी मांगी यदि उन्हें इस मुहावरे के इस्तेमाल से कोई तकलीफ हुई हो तो।
उन्होंने कहा कि ब्रिक्स देशों में भारतीयों की प्रति व्यक्ति आय सबसे कम है।  राजन ने कहा, ‘‘हमें अपने मुकाम पर पहुंचने का दावा करने से पहले लंबा सफर तय करना है। हम हर भारतीय को मर्यादित आजीविका दे सकें, इसके लिए लगातार आर्थिक वृद्धि के इस प्रदर्शन को 20 साल तक बरकरार रखने की जरूरत है।’’ उन्होंने यह भी कहा कि भारत की वैश्विक प्रतिष्ठा महत्वपूर्ण है लेकिन इसे ऐसे देश के तौर पर देखा जा रहा है जिसने अपनी क्षमता से कम प्रदर्शन किया है और उसे ढांचागत सुधार को ‘कार्यान्वित, कार्यान्वित और कार्यान्वित’ करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.