June 24, 2017

ताज़ा खबर
 

नोटबंदी पर बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, नकदी को बताया भ्रष्टाचार और काले धन का एक बड़ा स्रोत

मोदी ने कहा कि आठ नवंबर को किए गए फैसले ने भारत के आर्थिक बदलाव में केंद्रीय भूमिका रखने वाले छोटे व्यापारियों को एक ‘दुर्लभ अवसर’ दिया है।

Author नई दिल्ली | December 2, 2016 13:02 pm
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

अर्थव्यवस्था में नकदी की बहुतायत को भ्रष्टाचार और काले धन का बड़ा स्रोत बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (2 दिसंबर) को लोगों से ‘नकदी रहित लेनदेन’ (कैशलेस ट्रांजेक्शन) की ओर बदलाव की राह पकड़ने की अपील की ताकि ऐसे मजबूत भारत की नींव रखी जा सके जहां इस तरह की समस्या के लिए कोई जगह नहीं रहे। प्रधानमंत्री ने लिंक्डइन डॉट कॉम पर पोस्ट किए गए एक लेख में लिखा है ‘21वीं सदी के भारत में भ्रष्टाचार के लिए कोई जगह नहीं है। भ्रष्टाचार विकास की गति धीमी करता है और गरीबों, नव-मध्यम वर्ग तथा मध्यम वर्ग के सपनों को तोड़ देता है।’ भ्रष्टाचार और काले धन के खात्मे के उद्देश्य से 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट अमान्य करने के अपने आठ नवंबर के ‘ऐतिहासिक’ फैसले का संदर्भ देते हुए उन्होंने कहा ‘अर्थव्यवस्था में बहुतायत में नकदी की उपलब्धता भ्रष्टाचार और काले धन का एक बड़ा स्रोत है।’ इसके साथ ही मोदी ने एक बार फिर नकदीरहित लेनदेन पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं आप सबसे, खास कर अपने युवा मित्रों से नकदीरहित लेनदेन की ओर बदलाव करने और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करने का अनुरोध करता हूं। इससे एक ऐसे भारत की मजबूत नींव तैयार होगी जहां भ्रष्टाचार और काले धन के लिए कोई जगह नहीं होगी।’

प्रधानमंत्री मोदी ने लेख में आगे कहा है ‘आज हम मोबाइल बैंकिंग और मोबाइल वॉलेट के दौर में रह रहे हैं। खाने का ऑर्डर देना हो, फर्नीचर खरीदना और बेचना हो, टैक्सी के लिए ऑर्डर देना हो, यह सब कुछ तथा और भी बहुत कुछ आपके मोबाइल के माध्यम से संभव है। प्रौद्योगिकी हमारे जीवन में गति और सुविधा ले कर आई है।’ अपने लेख के साथ मोदी ने क्रेडिट कार्ड जैसे नकदीविहीन विकल्पों के चित्र भी पोस्ट किए हैं। उन्होंने कहा ‘मुझे पूरा विश्वास है कि आपमें से ज्यादातर लोग कार्ड और ई-वॉलेट का नियमित उपयोग कर रहे हैं और मुझे लगता है कि आपके साथ उन तरीकों को साझा करना चाहिए जिनसे नकदीविहीन लेनदेन में यथासंभव वृद्धि हुई है।’

मोदी ने कहा कि आठ नवंबर को किए गए फैसले ने भारत के आर्थिक बदलाव में केंद्रीय भूमिका रखने वाले छोटे व्यापारियों को एक ‘दुर्लभ अवसर’ दिया है। उन्होंने कहा ‘आज, हमारे व्यापारी समुदाय के पास खुद को अद्यतन करने तथा और अधिक प्रौद्योगिकी अपनाने का ऐतिहासिक अवसर है जो उनके लिए अधिक समृद्धि लाएगा।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि जब उन्होंने नोटबंदी की घोषणा की, तब वह जानते थे कि भारतवासियों को असुविधा होगी लेकिन ‘मैंने भारतवासियों से अनुरोध किया कि दीर्घकालिक फायदे के लिए वह कुछ समय की तकलीफ को बर्दाश्त करें। मैं यह देख कर खुश हूं कि देशवासी दीर्घकालिक फायदे के लिए कुछ समय की तकलीफ को बर्दाश्त कर रहे हैं।’ मोदी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में उन्हें उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, गोवा और पंजाब के ग्रामीण तथा शहरी इलाकों का दौरा करने का अवसर मिला। ‘मैं जहां भी गया, मैंने लोगों से पूछा … क्या भ्रष्टाचार और काले धन को खत्म किया जाना चाहिए? क्या गरीबों, नव-मध्यम वर्ग तथा मध्यम वर्ग को उनका हक मिलना चाहिए? हर जगह मुझे एक ही जवाब मिला और वह जवाब था ‘हां’।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on December 2, 2016 1:02 pm

  1. I
    indrajeet maurya
    Dec 2, 2016 at 2:09 pm
    indrajeet mauryabeta rahul choro se baat karke kya fayda. modi ji direct janta ko vishvas me lekar kaam kar rahe hai. unhe kejri rahul mamta mulayam lalu jaise choro se baat karne ki jarurat nhi hai.vaise jab modi ji bolenge to kisi ki aukat nhi ki jwab de sake......
    Reply
    1. R
      ramji
      Dec 2, 2016 at 10:55 pm
      मैं आपकी बात का समर्थन करता हूँ . सबसे अच्छा कदम कला धन खत्म करने के लिए है २००० रुपये के नोट की शूरूआत
      Reply
    2. I
      Ish Prakash
      Dec 2, 2016 at 12:22 pm
      मै मोदी जी के नीतियों का प्रसंशक रहा हूँ. लेकिन काले धन को बंद होने में मुझे संदेह है, क्यों की भारतीयों की मानसिकता अत्यंत दूषित हो चुकी है वंदे-मातरम .....
      Reply
      1. R
        rahul
        Dec 2, 2016 at 10:39 am
        ४० करोड़ अनपढ भी इसी देश मे रहते है और वे मोबाइल को सिर्फ बातों के लिए इस्तेमाल करते है जो कहना है संसद मे कहिए जहाँ आपके सवालों के जवाब मिल सके
        Reply
        1. S
          Shrikant Sharma
          Dec 3, 2016 at 5:38 am
          मोदी के इस आंदोलन में dheeरे धीरे जनता शामिल आती जा रही हहै गरीब जनता दुख उठा कर भी मोदी को समर्थन दे रही है पर उसके निकम्मे फाइनेंस मिनिस्ट्री के कोर्रुप्त बैंकिंग स्टाफ और मिनिस्टरों को जनता माफ़ नहीं करनेवाली है.मोदी को तुरंत गलत सलाह देने वाले पीएमओ के स्टाफ और अरुणजेटली को बर्खास्त करना चाहिए.मोदी गलत और corrupt स्टाफ पर जितना मेहरबान होंगे उतना उनकी इमेज दूषित होगी.अगर इं२५ दिनों में २५ कॉरर्र्प्त और kale धन के जमाखोरों को नेताओं को पाक कर वजील में ठूंस dete मोदी तोआज हर गरीब पूजा karta
          Reply
          1. S
            Shrikant Sharma
            Dec 3, 2016 at 5:27 am
            सभी काले dhan के जमा खरों नेबिना लाइन में lage २००० के नोटों से अपने तिजोड़ीयुओं को bhar लिया है नेता,अफसर,अरबपति जेटली वकील के दोस्त धन्नासेठ ---अब गरीब जनता को लाइन में लगा कर भी उसकी सैलरी नहीं de पारहि है sarkar
            Reply
            1. Load More Comments
            सबरंग