ताज़ा खबर
 

अब पेट्रोल-डीजल की कीमतें देंगी जेब को झटका, 2008 के बाद पहली बार कम होगा तेल उत्‍पादन

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इस महीने बड़ी बढ़ोत्‍तरी की जा सकती है। इसका कारण तेल उत्‍पादक देशों(ओपेक) के बीच हुआ समझौता है।
पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी।

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इस महीने बड़ी बढ़ोत्‍तरी की जा सकती है। इसका कारण तेल उत्‍पादक देशों(ओपेक) के बीच हुआ समझौता है। समझौते के तहत जनवरी 2017 से तेल के उत्‍पादन में कमी का निर्णय लिया गया है। साल 2008 से पहली बार ऐसा होगा जब तेल उत्‍पादन में कमी की जाएगी। ओपेक देश विश्‍व का एक तिहाई तेल उत्‍पादित करते हें। ओपेक देशों के फैसले के बाद ब्रेंट क्रूड की कीमतें 15 प्रतिशत तक बढ़ गई हैं। ब्रेंट क्रूड की कीमतें 16 महीने के सर्वोच्‍च स्‍तर 53 डॉलर पर बैरल पर चली गई है। जानकारों का कहना है कि तेल की वैश्विक कीमतें अल्पकालिक समय के लिए काफी ऊपर जा सकती है। उनके अनुसार अल्‍पकालिक समय के लिए तेल की कीमतें 60 डॉलर पर बैरल तक जा सकती है। यदि नाइजी‍रिया या लीबिया से सप्‍लाई में दिक्‍कत हुई तो यह कीमतें 65 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकती है।

ओपेक समझौते के बाद गोल्‍डमैन सेश ने कहा था कि अगले साल के पहले हाफ में औसत कीमतें 55 डॉलर प्रति बैरल रह सकती है। भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें बाजार के अधीन हैं। इसके चलते तेल कंपनियां महीने में दो बार कीमतों पर विचार करती हैं। तेल की वैश्विक कीमतों और डॉलर के मुकाबले रुपये के स्थिति के अनुसार इस पर फैसला लिया जाता है। भारत अपनी जरूरत का तीन-चौथाई से ज्‍यादा तेल आयात करता है। इंडियन क्रूड बास्‍केट को तेल मंत्रालय बेंचमार्क के रूप में मानता है। इसके अनुसार नवंबर में तेल की कीमतें 45 डॉलर के करीब थी। इंडियन क्रूड बास्‍केट ओमान और दुबई क्रूड को आधार मानता है।

वर्तमान में रुपये की स्थिति भी नाजुक बनी हुई है। रुपया वर्तमान में एक डॉलर के मुकाबले 68 रुपये के करीब है। विश्‍लेषकों का मानना है कि यह 70 रुपये तक जा सकता है। इसके चलते भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ सकती है। 30 नवंबर को जारी नई कीमतों के अनुसार पेट्रोल के दाम में 13 पैसे की वृद्धि की गई जबकि डीजल के भाव में 12 पैसे की कटौती की गयी है। इससे पहले, 16 नवंबर को पेट्रोल के दाम में 1.46 रुपए लीटर की बढ़ोत्‍तरी और डीजल 1.53 रुपए प्रति लीटर सस्‍ता किया गया था। पिछले कुछ सप्ताह से ईंधन के दाम लगातार बढ़ रहे थे। सितंबर से पेट्रोल के दाम छह बार बढ़ाए जा चुके हैं। वहीं डीजल कीमतों में पिछले महीने से तीन बार बढ़ोतरी की गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.