December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी के चलते आनलाइन सलाह लेने वालों की संख्या में इजाफा

स्वास्थ्य के संबंध में आनलाइन सलाह लेने वालों की संख्या में ‘भारी इजाफा’ दर्ज किया गया है। विमुद्रीकरण के बाद नकदी संकट से जूझ रहे लोग अब टेलीफोन पर स्वास्थ्य संबंधी सलाह एवं उपचार को तरजीह दे रहे हैं।

Author नई दिल्ली | November 23, 2016 16:58 pm
प्रतीकात्मक तस्वीर

स्वास्थ्य के संबंध में आनलाइन सलाह लेने वालों की संख्या में ‘भारी इजाफा’ दर्ज किया गया है। विमुद्रीकरण के बाद नकदी संकट से जूझ रहे लोग अब टेलीफोन पर स्वास्थ्य संबंधी सलाह एवं उपचार को तरजीह दे रहे हैं। आन.डिमांड स्वास्थ्य सेवायें उपलब्ध कराने वाली दिल्ली स्थित आन.लाइन प्लेटफार्म ‘विजिट’ ने बताया कि रोजाना पूछताछ करने वालों की संख्या में 20-25 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हुयी है।
यह आन.लाइन प्लेटफार्म वेब और मोबाइल ऐप्लीकेशन पर उपलब्ध है। इससे करीब 500 चिकित्सक जुड़े हैं, जिनमें मनौवैज्ञानिक, दंत चिकित्सक, त्वचा विशेषज्ञ और सामान्य चिकित्सक शामिल हैं। इसके अलावा इसमें एमबीबीएस चिकित्सक भी है, जो मुफ्त में स्वास्थ्य संबंधी सलाह एवं परामर्श उपलब्ध कराते हैं।

विजिट के प्रमुख अनुराग प्रसाद ने पे्रट्र से कहा, ‘‘मुफ्त सलाह लेने वालों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुयी है। इसलिये अब हम और चिकित्सकों को इससे जोड़ने के बारे में सोच रहे हैं। इसके अलावा हम ग्रामीण क्षेत्रों में भी फोन पर सलाह लेने वाले नेटवर्क को बढ़ा रहे हैं।

पहले हमें रोजाना करीब 500 फोन आते थे, जो विमुद्रीकरण के बाद अब बढ़कर 3,000 पर पहुंच गये हैं।’ उन्होंने बताया कि इस समय लोगों के पास चिकित्सकों को देने के लिए नकदी नहीं है, इसलिये वह लोग ई.वालेट का रच्च्ख कर रहे हैं। नकदी की कमी के कारण स्वास्थ्य सेवायें देने वाले ऐप का प्रयोग बढ़ा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 23, 2016 4:57 pm

सबरंग