December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

अब ओला कैब में भी मिलेगा कैश, कंपनी ने SBI व PNB बैंकों से की साझेदारी

विभिन्न स्थानों पर ओला कैब के माध्यम से लोगों को प्रति कार्ड 2000 रुपए की नकदी प्रदान भी की गई।

Author नई दिल्ली | November 28, 2016 08:26 am
एफडी की जगह म्युचुअल फंड में करें निवेश। सांकेतिक तस्वीर। (Photo Source: AP)

नोटबंदी के बाद नकदी संकट से जूझ रहे लोगों के लिए राहत भरी खबर है। पेट्रोल पंपों के बाद अब एप आधारित टैक्सी सेवा देने वाली कंपनी ओला ने भी मोबाइल एटीएम सर्विस शुरू करने का एलान किया है। इसके तहत ओला अपनी कुछ कैब में लोगों को डेबिट कार्ड के माध्यम से नकदी लेने की सुविधा देगी। कैब्स आसपास के व्‍यस्‍त इलाके या पार्किंग में जाकर खड़ी हो जाएंगी। इसकी जानकारी ओला ऐप पर मिल सकेगी। ऐप के जरिए इसकी जानकारी लेकर लोग डेबिट कार्ड्स स्वाइप करवाकर उन कैब से कैश ले सकेंगे। इसके लिए कंपनी भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ साझेदारी कर रही है।

गौरतलब है कि आठ नवंबर को 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद किए जाने के बाद लोग नकदी की समस्या से जूझ रहे हैं। इसके अलावा बैंकों के एटीएम भी नए 2000 और 500 रुपए के नोट निकालने में सक्षम नहीं हो सके हैं। ऐसे में लोगों को राहत देने करीब 3700 पेट्रोल पंपों पर पॉइंट ऑफ सेल्स (पीओएस) मशीनों को शुरू किया गया है जहां लोग डेबिट कार्ड के माध्यम से नकदी ले सकते हैं। इसी तरह का प्रयोग कोलकाता और हैदराबाद में ओला ने किया जिसमें पीओएस मशीन और बैंक अधिकारी के साथ विभिन्न स्थानों पर ओला कैब के माध्यम से लोगों को प्रति कार्ड 2000 रुपए की नकदी प्रदान की गई।

ओला के मुख्य परिचालन अधिकारी प्रणय जीवराजका ने कहा कि इसका शुरूआती रूझान बहुत अच्छा रहा है और कंपनी बैंकों के साथ इस सेवा का विस्तार अन्य शहरों में करने की संभावनाओं पर विचार विमर्श कर रही है। कोलकाता में ओला ने पीएनबी और हैदराबाद में एसबीआई एवं आंध्रा बैंक के साथ इसके लिए साझेदारी की थी।

बाकी ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक कीजिए-

नोटबंदी: प्रधानमंत्री मोदी ने की अपील, ई-वॉलेट का इस्तेमाल करें लोग

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 28, 2016 7:49 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग