December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

अब ओवरड्राफ्ट/कैश क्रेडिट अकाउंट वाले भी एक हफ्ते में निकाल सकते हैं 50 हजार रुपए कैश: RBI

इसके लिए जरूरी है कि धाताधारक का अकाउंट पिछले 3 या उससे ज्यादा महीने से पुराना होना चाहिए।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

नोटबंदी के बाद बैंकों और एटीएम की लाइनों में खड़े लोगों को थोड़ी और राहत देते हुए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सोमवार को नए निर्देश जारी किए हैं। नए नियमों के मुताबिक अब करंट अकाउंट के साथ ही ओवरड्राफ्ट अकाउंट और कैश क्रेडिट अकाउंट के खाताधारक भी एक हफ्ते में 50 हजार रुपए तक का कैश निकाल सकते हैं। हालांकि इसके लिए जरूरी है कि धाताधारक का अकाउंट पिछले 3 या उससे ज्यादा महीने से पुराना होना चाहिए। इसके अलावा यह सुविधा पर्सनल ओवरड्राफ्ट अकाउंट के लिए नहीं है। बता दें कि केंद्रीय बैंक ने 14 नवंबर को यह सुविधा करंट अकाउंट होल्डर्स को दी थी। लेकिन अब नए फैसले के बाद कैश की किल्‍लत से जूझ रहे छोटे बिजनेसमैन अब अपनी जरूरतों के लिए प्रति हफ्ते 50 हजार रुपए तक कैश निकाल सकेंगे।

500 के पुराने नोट चला सकेंगे किसान:

देश के किसानों को राहत देते हुए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बताया कि किसान बीज खरीदने के लिए 500 रुपए का पुराना नोट चला सकते हैं। नोट का इस्तेमाल करते हुए किसान किसी भी केंद्र या राज्‍य सरकार द्वारा संचालित केंद्रों से बीज खरीद सकते हैं। हालांकि इसके लिए उन्हें अपना पहचान पत्र दिखाना होगा। रबी की बुवाई के मौसम को ध्‍यान में रखते हुए सरकार ने 17 नवंबर को किसानों की निकास सीमा को बढ़ाकर 25000 रुपये कर दिया था। इसके साथ ही किसान अपने किसान क्रेडिट कार्ड से भी 25000 रुपये तक एक बार में निकासी कर सकते हैं।

9 दिन में निकाले गए 1.03 ट्रिलियन रुपए:

नोटबंदी के बाद लोगों द्वारा अपने खाते से निकाले गए पैसों के आंकड़े भी आरबीआई ने जारी किए हैं। रिजर्व बैंक के मुताबिक, 10 नवंबर से 18 नवंबर तक, यानी 9 दिन में लोगों ने 1.03 ट्रिलियन रुपए खाते से निकाले गए है। इसके अलावा केंद्रीय बैंक ने बताया कि 10 नवंबर से अब तक खातों में 5.12 लाख करोड़ रुपए जमा किए गए, वहीं 33000 करोड़ पुराने नोट बदले गए हैं।

बाकी ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें
नोटबंदी: ATM और बैंकों के बाहर कतारों में खड़े लोगों से मिले राहुल गांधी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 2:47 pm

सबरंग