ताज़ा खबर
 

किसानों को डेढ़ गुना मुआवज़ा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल की बेमौसमी बारिश से फसलों को हुए नुकसान से प्रभावित किसानों को राहत पहुचाने के लिए उन्हें मिलने वाली मुआवजा राशि में 50 फीसद वृद्धि करने का एलान किया है। इसके साथ ही मुआवजे के मानदंडों में भी बदलाव करने का फैसला किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले जहां […]
मोदी ने कहा ‘‘हमने दूसरा महत्वपूर्ण फैसला मानकों को बढ़ाने का किया है ताकि किसानों की अधिक मदद की जा सके। मुआवजे की राशि बढ़ाकर डेढ़ (1.5) गुना कर दी गई है। (फ़ोटो-पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल की बेमौसमी बारिश से फसलों को हुए नुकसान से प्रभावित किसानों को राहत पहुचाने के लिए उन्हें मिलने वाली मुआवजा राशि में 50 फीसद वृद्धि करने का एलान किया है। इसके साथ ही मुआवजे के मानदंडों में भी बदलाव करने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले जहां 50 फीसद फसल का नुकसान होने पर ही किसान मुआवजे का हकदार होता था, अब 33 फीसद फसल के नुकसान पर भी उसे मुआवजा दिया जाएगा। वे प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत के मौके पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे। मुद्रा योजना की शुरुआत अपना छोटा मोटा कारोबार करने वालों को सस्ती कर्ज सुविधा देने के लिए की गई है।

उन्होंने बैंकों और बीमा कंपनियों से भी कहा कि संकट से घिरे किसानों के मामलों का तुरंत निपटारा करें। हाल की बेमौसमी बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान के आकलन के लिए केंद्रीय मंत्रियों की टीम को विभिन्न राज्यों में भेजा गया था। कैबिनेट मंत्रियों के साथ इसकी समीक्षा बैठक के बाद आपदा पीड़ित किसानों को उदार सरकारी सहायता देने का निर्णय लिया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने जो उपाय किए हैं उनसे प्राकृतिक आपदा से प्रभावित ज्यादा से ज्यादा किसानों को बेहतर मुआवजा मिलने में मदद मिलेगी। मुआवजे के लिए 50 फीसद फसल नुकसान के मापदंड को बदला गया है। अब 33 फीसद फसल नुकसान होने पर भी किसान मुआवजा पाने का पात्र होगा। किसान की मदद के लिए दूसरा महत्त्वपूर्ण निर्णय जो हमने किया है, वह है मुआवजा राशि को बढ़ा कर डेढ़ गुना कर दिया गया है। पहले यदि उसे 100 रुपए मुआवजा मिलता था तो अब उसे 150 रुपए मिलेंगे। यानी अगर उसे एक लाख रुपए मिलते हैं तो अब डेढ़ लाख रुपए मिलेंगे। इस तरह इसमें 50 फीसद वृद्धि की गई है।

मोदी ने कहा कि उन्होंने बैंकों से प्रभावित किसानों के कर्ज का पुनर्गठन करने और बीमा कंपनियों को भी उनके बीमा दावों का तुरंत निपटारा करने को कहा है।

रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने बैंकों को संकटग्रस्त किसानों के कर्ज का पुनर्गठन करने का निर्देश दे दिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि प्राकृतिक आपदाओं की वजह से किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। पिछले साल कम बारिश की वजह से नुकसान हुआ तो इस साल बेमौसम वर्षा और ओलावृष्टि के कारण उनके सामने संकट आया है। प्रभावित किसानों को अधिक मुआवजा देने पर मोदी ने कहा कि इससे सरकारी खजाने पर काफी बोझ बढ़ेगा लेकिन संकट में घिरे किसानों की मदद करना अधिक महत्त्वपूर्ण है।

कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने पहले कहा था कि बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से रबी मौसम की 113 हेक्टेयर क्षेत्र में फैली फसल को नुकसान हुआ है।

रिजर्व बैंक ने कहा शुरुआती अनुमान के मुताबिक रबी मौसम की फसलों का 17 फीसद क्षेत्र प्रभावित हुआ है हालांकि, इस संबंध में समग्र नुकसान का आकलन होना अभी बाकी है।
दुखती रग पर राहत भरे हाथ:
* मुआवजा राशि को भी बढ़ा कर डेढ़ गुना किया गया है। पहले बतौर मुआवजा अगर 100 रुपए मिलते थे तो अब 150 रुपए मिलेंगे।
* रिजर्व बैंक ने बैंकों को उन किसानों के कर्ज के पुनर्गठन का निर्देश दिया जिनकी फसलें बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण तबाह हुई हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग