ताज़ा खबर
 

पेप्सी की CEO इंदिरा नूयी ने कहा- ‘स्वीटी’ या ‘हनी’ बुलाया जाना नहीं पसंद

नूयी ने कहा कि अपने समान वेतन की मांग को लेकर ‘‘लड़कों की जमात’’ में शामिल होने के लिए कई साल से महिलाएं ‘‘क्रांति के अंदाज’’ में हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं ने अपनी डिग्री, स्कूलों में अच्छे ग्रेड से कार्यक्षेत्र में अपनी पहचान बनाई है।
Author   न्यूयार्क | April 9, 2016 16:59 pm
इंदिरा नूयी पेप्सीको की सीईओ हैं।

पेप्सीको की सीईओ और भारतवंशी इंदिरा नुयी को ‘‘स्वीटी’’ या ‘‘हनी’’ बुलाया जाना पसंद नहीं है, लिहाजा नूयी इस बात की पुरजोर वकालत करती हैं कि कार्यक्षेत्र और समाज में महिलाएं बराबरी का दर्जा पाने की हकदार हैं। उनका कहना है कि एक व्यक्ति के तौर पर महिलाओं का सम्मान किया जाना चाहिए और उन्हें इस तरह के स्वीटी, हनी जैसे नामों से संबोधित नहीं किया जाना चाहिए।

‘न्यूयार्क टाइम्स’ के सहयोग से आयोजित ‘वुमेन इन द वर्ल्ड’ शिखर सम्मेलन में पत्रकारोें और लेखिका टीना ब्राउन की मौजूदगी में नूयी ने कहा, ‘‘हमें अभी भी बराबरी का दर्जा मिलना बाकी है। मुझे स्वीटी या हनी बुलाया जाना पसंद नहीं है, जिससे लोग अभी भी मुझे अक्सर संबोधित करते हैं। हनी, स्वीटी, बेब जैसे संबोधनों के बजाय लोगों को हमसे एक कार्यकारी और सामान्य लोगोें के तौर पर बर्ताव करना चाहिए। इसे बदलना होगा।’’

नूयी ने कहा कि अपने समान वेतन की मांग को लेकर ‘‘लड़कों की जमात’’ में शामिल होने के लिए कई साल से महिलाएं ‘‘क्रांति के अंदाज’’ में हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं ने अपनी डिग्री, स्कूलों में अच्छे ग्रेड से कार्यक्षेत्र में अपनी पहचान बनाई है, जिसके कारण पुरूष समकक्षों ने हमें ‘‘गंभीरता’’ से लिया। उन्होंने कहा, ‘‘इस कार्यक्षेत्र में हमने क्रांतिकारी रूप से अपना रास्ता बनाया। इसके बाद हमें वेतन में बराबरी की जरूरत है, जिसके लिए हम अब तक लड़ाई लड़ रहे हैं।’’

नूयी ने खेद जताते हुए कहा कि कार्यक्षेत्र में महिलाएं अन्य महिलाओं की मदद नहीं करतीं, जो कि उन्हें अधिक से अधिक करना चाहिए। उन्होंने महिलाओं से आपसी सहयोग को और मजबूत करने को कहा। उन्होंने इस पर भी ध्यान दिलाया कि महिलाएं अक्सर दूसरी महिलाओं से मिली जानकारियों और अनुभवों को सकारात्मक रूप से नहीं लेतीं। लेकिन, यही प्रतिक्रिया पुरूषों से मिलने पर लोग उसे स्वीकार करने से नहीं हिचकते।

अपने कॅरियर और निजी जीवन के बीच उन्होंने किस तरह से सामंजस्य बनाया, इस बारे में पूछे जाने पर नूयी ने कहा कि अपने पेशे और पारिवारिक जीवन के बीच सामंजस्य बैठाना उनके लिए ‘‘आसान’’ नहीं था। यह पूछे जाने पर कि क्या अपने जीवन में पीछे मुड़कर देखने पर उन्हें किसी बात का अफसोस है, इस पर नूयी ने कहा कि वैसे तो उन्हें अपने कॅरियर को आगे बढ़ाने का कोई पछतावा नहीं है, लेकिन उनके दिल में इस बात का मलाल जरूर है कि वह अपनी बेटियों के साथ पर्याप्त समय नहीं बिता पाइ’। नूयी ने इस बात पर जोर दिया कि मातृत्व और पितृत्व अवकाश को ‘‘52 हफ्तों’’ के लिए बढ़ाया जाना ही काफी नहीं है, क्योंकि बच्चा तब महज एक साल का ही होता है और अपने बच्चे को घर पर छोड़कर काम पर ध्यान लगाना कोई आसान काम नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.