ताज़ा खबर
 

ब्रिटेन-अमेरिका जाने वालों भारतीय छात्रों की संख्या 50% बढ़ेगी

अगले पांच साल में स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई के लिए अमेरिका और ब्रिटेन जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में 50 प्रतिशत की बढ़ोतरी का अंदाजा है।
Author सिंगापुर | August 11, 2016 15:52 pm
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (File photo)

स्नातक और परास्नातक पाठ्यक्रमों के लिए विदेश जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या अगले पांच साल में 50 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि उनके परिवारों की आय कई गुना बढ़ेगी। यह बात शिक्षा प्रौद्योगिकी आधारित एक कंपनी, सियाल्फो ने कही। सियाल्फो के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी रोहन पसारी ने कहा, ‘हमें पारंपरिक अनुमान के आधार पर भी अगले पांच साल में स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई के लिए अमेरिका और ब्रिटेन जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में 50 प्रतिशत की बढ़ोतरी का अंदाजा है। इसे उनके परिवारों की खर्च करने योग्य आय में बढ़ोतरी से मदद मिलेगी।’

सियाल्फो की स्थापना कोलकाता में जन्मे पसारी और सिंगापुर के स्टैनली चिया ने कही है और उन्होंने अपने 90 प्रतिशत छात्रों का दाखिला अमेरिका और ब्रिटेन के शीर्ष विश्वविद्यालयों में करवाया है। पसारी ने कहा कि भारतीय छात्र अंतरराष्ट्रीय शिक्षा और अनुभव प्राप्त करने और भारत तथा वैश्विक स्तर पर शीर्ष स्तर पर पेशेवरों में अपने आपको स्थापित करने के इच्छुक हैं। उन्होंने कहा कि चीन की अर्थव्यवस्था में तेजी के दौरान चीन के छात्रों की अंतरराष्ट्रीय शिक्षा प्राप्त करने की गतिविधियों में 100 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई थी। पसारी ने कहा कि अब भारतीय छात्रों के लिए वही स्थिति है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.