ताज़ा खबर
 

किराये के घर में रहने वाले ऐसा करेंगे तो आसानी से बचा पाएंगे अपना इनकम टैक्स

अाप अगर किराए के घर में रह रहे हैं तो रेंट अग्रीमेंट जरूर बनवा लें और पैसा सीधे मकान मालिक के खाते में ट्रांसफर करें।
आपके पास इसका पक्का सबूत होना चाहिए कि आप अपनी मां, पिता या किसी करीबी रिश्तेदार के घर में रह रहे हैं।

इनकम टैक्स विभाग की रेंट पर रहने वाले सेलरिड लोगों पर पैनी नजर है। जो लोग अपने किसी रिश्तेदार या मांता-पिता को घर का किराया देते हैं विभाग उनकी जांच कर सकता है। इनकम टैक्स विभाग आपके द्वारा रेंट देने के पुख्ता सबूत मांग सकता है। आप यदि किसी अपने रिश्तेदार के घर में रहते हैं और कैश में पेमेंट करते हैं तो आपको इसके सबूत देने में थोड़ी दिक्कत होगी। अाप अपने जिस भी रिश्तेदार के मकान में किराए पर रह रहे हैं, उसके साथ रेंट अग्रीमेंट बनवा लें। आपके पास इसका पक्का सबूत होना चाहिए कि आप अपनी मां, पिता या किसी करीबी रिश्तेदार के घर में रह रहे हैं। कैश में दिए गए किराए को लेकर सबूत देना थोड़ा मुश्किल होता है। घर का किराया कैश में न दें अच्छा होगा कि किराया डायरेक्ट मकान मालिक के खाते में ट्रांसफर करें। इससे आपके पास किराया देने का सबूत होगा।

यदि किसी रिश्तेदार के नाम पर रेंटल पेमेंट कर रहे हों, तो वह निश्चित तौर पर आईटीआर फाइल करता हो और अपने किराए की रसीदों को रिटर्न में दिखा दे। इससे आपके पास एक और सबूत हो जाएगा। हो सकता है रेंट की पर्ची में दिखाया गया पता आपके राशन कार्ड, बैंक स्टेटमेंट और आईटीआर में दिये गये पते से मैच न करता हो। ऐसे मामलों में इनकम टैक्स विभाग पड़ताल करेगा। यदि आप अपने रिश्तेदार की सोसायटी के किसी फ्लैट में रह रहे हैं तो यह सुनिश्चत कर लें कि सोसायटी के सेक्रेटरी को आपके किराए पर रहने का पता होना चाहिए।

इसके अलावा, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि उसी क्षेत्र में वैसे ही मकान पर किराये का जो मार्केट रेट चल रहा है, आपका किराया भुगतान उससे ज़्यादा नहीं होना चाहिए। ऐसे मामलों में आयकर अधिकारी मकान किराया भत्ते पर मिलने वाली छूट को खारिज कर सकता है।अशोक माहेश्वरी एंड असोसिएट्स एलएलपी में डायरेक्टर (टैक्स और नियामक) संदीप सहगल के मुताबिक, मुंबई ट्रिब्यूनल द्वारा यह साफ कर दिया गया है कि एचआरए दावे के लिए केवल रेंट स्लिप ही काफी नहीं है। इसे पुख्ता और संपूर्ण दस्तावेज के तौर पर नहीं माना जाएगा। साथ ही टैक्स अधिकारी इस बाबत अन्य दस्तावेजों की मांग कर सकती हैं ताकि वे सुनिश्चित कर सकें कि दावा सही है।

GST से जुड़े 4 बिल लोकसभा में पास होने पर पीएम मोदी ने देशवासियों की दी बधाई; कांग्रेस ने पूछा- "12 लाख करोड़ रुपये के नुकसान की भरपाई कौन करेगा", देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग