ताज़ा खबर
 

जीएसटी परिषद का फैसला- रोजमर्रा इस्तेमाल की 30 चीजें होंगी सस्ती

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने परिषद की यहां आठ घंटे चली बैठक के बाद कहा कि मध्यम श्रेणी की कारों पर दो फीसद, बड़ी कारों पर पांच फीसद और एसयूवी पर सात फीसद अतिरिक्त उपकर लगाने का फैसला किया गया।
Author हैदराबाद | September 10, 2017 03:53 am
कैबिनेट बैठक के दौरान साथी मंत्रियों से चर्चा करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (Source: PIB)

वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) परिषद की शनिवार को यहां हुई बैठक में लिए गए फैसले के बाद मध्यम श्रेणी के साथ-साथ लग्जरी और स्पोर्ट्स यूटिलिटि व्हीकल्स (एसयूवी) महंगी हो जाएंगी। बैठक में इन वाहनों पर दो फीसद अतिरिक्त उपकर लगाने का फैसला लिया गया। हालांकि, छोटी और हाइब्रिड कारों को इस वृद्धि से छूट दी गई है। परिषद की बैठक में धूप बत्ती, प्लास्टिक रेनकोट, रबड़ बैंड, झाड़ू, इटली/डोसा बाटर से लेकर रसोई में काम आने वाले गैस लाइटर जैसे दैनिक उपभोग की 30 वस्तुओं पर जीएसटी दर कम करने का फैसला किया गया। इन चीजों की दरों में विसंगतियां सामने आने के बाद यह फैसला लिया गया। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने परिषद की यहां आठ घंटे चली बैठक के बाद कहा कि मध्यम श्रेणी की कारों पर दो फीसद, बड़ी कारों पर पांच फीसद और एसयूवी पर सात फीसद अतिरिक्त उपकर लगाने का फैसला किया गया। इन वाहनों पर पहले लागू उपकर में दो से सात फीसद तक उपकर और जुड़ जाएगा। इससे इन वाहनों पर कुल कराधान जीएसटी से पहले के स्तर तक बाकी पहुंच गया है। जेटली की अध्यक्षता वाली परिषद ने हालांकि हाइब्रिड कारों और 1200 सीसी तक की पेट्रोल-डीजल से चलने वाली छोटी कारों पर अतिरिक्त उपकर नहीं लगाने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि अतिरिक्त उपकर लागू होने की तिथि बाद में अधिसूचित की जाएगी।

कारोबारियों द्वारा अपने ब्रांड का पंजीकरण समाप्त कराने की समस्या पर भी बैठक में विचार किया गया। इसमें कहा गया कि 15 मई 2017 को जो ब्रांड पंजीकृत होगा उस पर जीएसटी लगाया जाएगा। फिर चाहे इस तिथि के बाद उस ब्रांड का पंजीकरण रद्द ही क्यों न करा दिया गया हो। बताते चलें कि बिना ब्रांड वाले खाद्य उत्पादों को जीएसटी के तहत छूट दी गई थी। जबकि पैकिंग वाले ब्रांडेड खाद्य उत्पादों पर पांच फीसद की दर से जीएसटी लगाया गया था। यही वजह है कि कई उद्यमियों ने जीएसटी से बचने के लिए अपने उत्पादों का ब्रांड पंजीकरण रद्द करवाना शुरू कर दिया। जेटली ने बताया कि सूखी इमली, खली, धूपबत्ती, प्लास्टिक से बने रेनकोट, रबर बैंड, किचन गैस लाइटर और ऐसे ही कुछ अन्य दैनिक उपभोग वाले 30 सामानों पर जीएसटी दर कम की गई है।  जेटली ने कहा कि पेट्रोल-डीजल की छोटी कारें जीएसटी लागू होने के बाद तीन फीसद सस्ती हुई हैं। इनके मामले में यथास्थिति रहेगी। ऐसे में उपभोक्ताओं को इनका लाभ मिलने मिलता रहेगा, लेकिन मध्यम श्रेणी की कारों पर कर का कुल बोझ 48 से घटकर 43 फीसद रह गया था जिसे परिषद ने शनिवार को दो फीसद बढ़ाकर 45 कर दिया। बड़ी कारों पर आठ फीसद का फायदा हो रहा था, उन पर वापस पांच फीसद उपकर बढ़ा दिया गया है। इसी प्रकार एसयूवी वाहनों पर 11 फीसद तक कर में फायदा हो गया था। परिषद ने इसमें सात फीसद की ही वृद्धि की है। जेटली ने कहा कि हमारे पास अतिरिक्त उपकर 10 फीसद तक बढ़ाने की गुंजाइश थी लेकिन हमने इसे सात फीसद ही बढ़ाया। दस से लेकर 13 लोगों के बैठने की क्षमता वाले वाहनों पर और हाइब्रिड कारों पर उपकर में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

जीएसटी परिषद की आज हुई 21वीं बैठक में जुलाई माह की बिक्री रिटर्न यानी जीएसटीआर-1 दाखिल करने की समय सीमा भी एक माह बढ़ाकर दस अक्तूबर कर दी गई। देश में जीएसटी व्यवस्था 01 जुलाई से लागू हुई है। इस लिहाज से पहली बार रिटर्न दाखिल की जा रही है। बैठक में अन्य रिटर्न भरने की तिथि को भी आगे बढ़ाया गया है।वित्त मंत्री ने कहा कि अब तक जीएसटी के तहत संग्रहण काफी बेहतर रहा है। पात्र करदाताओं में से 70 फीसद से अधिक ने 95 हजार करोड़ रुपए की रिटर्न दाखिल की है। जीएसटी लागू होने के बाद कुछ मौकों पर जीएसटी नेटवर्क की समस्या खड़ी हुई है। कई कारोबारियों की शिकायत आई है कि उन्हें रिटर्न भरने में काफी समय लग रहा है। परिषद ने बैठक में इस मुद्दे पर विचार करते हुए समिति बनाने का फैसला किया जो कि जीएसटी के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करेगी।

ऐसे कारोबारियों जिन्होंने जीएसटी से बचने के लिए अपने ब्रांड का पंजीकरण समाप्त कर दिया है, के मामलों में समिति ने फैसला लिया है कि इसके लिए 15 मई 2017 को कट आफ तिथि तय की गई है। जो भी ब्रांड इस तिथि को पंजीकृत होगा, उस पर जीएसटी लगाया जाएगा। बताते चलें कि जीएसटी व्यवस्था में ब्रांड वाले खाद्य पदार्थ पर पांच फीसद जीएसटी लगाया गया है जबकि बिना ब्रांड वाले खुले खाद्य पदार्थ पर शून्य जीएसटी रखा गया है। ऐसे में कई व्यापारियों ने जीएसटी से बचने के लिए अपने ब्रांड का पंजीकरण समाप्त करना शुरू कर दिया था। जेटली ने कहा कि खुले में बिकने वाले खाद्य पदार्थ पर जीएसटी नहीं लगेगा जबकि ब्रांड नाम के तहत बिकने वाले खाद्य पदार्थ पर पांच फीसद की दर से जीएसटी लागू होगा। उन्होंने कहा कि खादी ग्रामोद्योग आयोग के स्टोर से बिकने वाले खादी के कपड़ों को जीएसटी से छूट होगी। उन्होंने कहा कि कारीगर सहित अंतरराज्यीय बिक्री कारोबार 20 लाख रुपए से कम होने पर पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होगी। इसके अलावा ‘जॉब वर्क’ की कुछ श्रेणियों को भी इस तह की छूट दी गई है। इसमें सोने को शामिल नहीं किया गया है।
राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने बताया कि जीएसटीआर 1,2,3 भरने के मामले में काफी समय दिया गया है। उन्होंने कहा कि 100 करोड़ रुपए तक के कारोबार वाली कंपनियों को जीएसटीआर-1 भरने की अंतिम तिथि तीन अक्तूबर होगी जबकि अन्य कंपनियों के लिए अंतिम तिथि 10 अक्तूबर होगी। जुलाई महीने के लिए जीएसटीआर-2 को 31 अक्तूबर तक और जीएसटीआर-3 को 10 नवंबर तक दाखिल किया जा सकेगा। जेटली ने कहा कि कारोबारी कंपोजीशन योजना को 30 सितंबर तक अपना सकते हैं।

’सूखी इमली, खली, धूपबत्ती, प्लास्टिक से बने रेनकोट, रबर बैंड, किचन गैस लाइटर तथा ऐसे ही कुछ अन्य दैनिक उपभोग वाले 30 सामानों पर जीएसटी दर कम घटाई।
’मध्यम श्रेणी की कारों पर दो , बड़ी कारों पर पांच और एसयूवी पर सात फीसद अतिरिक्त उपकर लगाया। छोटी और हाइब्रिड कारों को इस वृद्धि से छूट दी गई है।
’वित्त मंत्री ने कहा कि अब तक जीएसटी के तहत संग्रहण काफी बेहतर रहा है। पात्र करदाताओं में से 70 फीसद से अधिक ने 95 हजार करोड़ रुपए की रिटर्न दाखिल की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.