ताज़ा खबर
 

देश में सोने की मांग दूसरी तिमाही में 18 प्रतिशत घटी: डब्ल्यूजीसी

मूल्य के लिहाज से अप्रैल-जून तिमाही में भारत की सोने की मांग 8.7 प्रतिशत घट कर 35,500 करोड़ रुपए हो गई।
Author मुंबई | August 11, 2016 16:31 pm
फरवरी में इससे भी निचले स्तर पर था सोना । (पीटीआई फाइल फोटो)

विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) ने दूसरी तिमाही में मांग में गिरावट के मद्देनजर इस साल के लिए भारत की सोने की मांग के अपने अनुमान को 12 प्रतिशत घटाकर 750-850 टन कर दिया है। डब्ल्यूजीसी की ताजा रपट के मुताबिक दूसरी तिमाही में 18 प्रतिशत घटकर 131 टन रही और कहा है कि ऐसा कीमत में बढ़ोतरी, सरकारी नियमों और जौहरियों की हड़ताल के कारण हुआ। स्वर्ण-मांग की रुझान पर डब्ल्यूजीसी की इस ताजा रपट में यह जानकारी दी गयी है। पिछले साल इसी तिमाही में मांग 159.8 टन थी। मूल्य के लिहाज से अप्रैल-जून तिमाही में भारत की सोने की मांग 8.7 प्रतिशत घट कर 35,500 करोड़ रुपए हो गई जो 2015 की इसी तिमाही में 38,890 करोड़ रुपए थी।

भारत में डब्ल्यूजीसी के प्रबंध निदेशक सोमसुंदरम पीआर ने संवाददाताओं से कहा, ‘देश में उपभोक्ता मांग 2016 की दूसरी तिमाही में 18 प्रतिशत घटकर 131 टन रही क्योंकि जौहरियों की हड़ताल अप्रैल में भी जारी रही और यह कमोबेश अक्षय तृतीया चलती रही जबकि इस पर्व पर सोने की खरीद शुभ मानी जाती है।’ उन्होंने कहा, ‘सोने के मूल्य में उल्लेखनीय बढ़ोतरी से इस साल पहली छमाही में मांग प्रभावित हुई। इसलिए हमने 2016 के लए मांग घटाकर 750-850 टन कर दी है। देखते हैं दूसरी छमाही में कीमत कैसे बढ़ती है।’

साल 2016 की पहली छमाही में देश में सोने की मांग 30 प्रतिशत गिरकर 247.4 टन पर आ गई जो पिछले साल की इसी अवधि में 351.5 टन थी। उन्होंने कहा, ‘हालाकि उच्च मूल्य और सोना खरीद पर पैन कार्ड व टीडीएस आदि की शर्त, जेवरात पर उत्पाद शुल्क, ग्रामीण आय में नरमी के कारण मांग भी दबी रही।’ समीक्षाधीन अवधि में भारत में कुल जेवरात की मांग 20 प्रतिशत घटकर 97.9 टन रही जो 2015 की इसी तिमाही के दौरान 122.1 टन थी।

इसी तरह जून की तिमाही में मूल्य के हिसाब से जेवरात की मांग 10.8 प्रतिशत घटकर 26,520 करोड़ रुपए रही जो 2015 की दूसरी तिमाही में 29,720 करोड़ रुपए की थी। दूसरी तिमाही के दौरान कुल निवेश मांग 12 प्रतिशत गिरकर 33.1 टन रही जो पिछले साल की इसी अवधि में 37.7 टन थी। मूल्य के लिहाज से सोने की निवेश मांग जून 2016 की तिमाही में 2.1 प्रतिशत घटकर 8,980 करोड़ रुपए रही जो 2015 की दूसरी तिमाही में 9,170 करोड़ रुपए थी। रपट के मुताबिक समीक्षाधीन अवधि में सोने का कुल पुनर्चक्रण भी घटकर 23.8 टन रह गया जो पिछले साल की इसी अवधि में 24 टन था।

सोमसुंदरम ने कहा कि दूसरी तिमाही में देश में सोने के गैरकानूनी प्रवाह में बढ़ोतरी हुई जिससे संगठित स्वर्ण उद्योग का कारोबार और कर अनुपालन प्रभावित हुआ। उन्होंने कहा, ‘दूसरी तिमाही में अघोषित कारोबार में करीब 40-45 टन सोने का प्रवाह हुआ।’ उन्होंने कहा कि इस साल की पहली छमाही में आयात 38 प्रतिशत गिरकर 291 टन रहा जो पिछले साल की इसी अवधि में 470 टन था। उन्होंने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि इस साल के आखिरी चार महीनों विशेष तौर पर सितंबर की अंत में आयात में बढ़ोतरी होगी ताकि त्योहारी तथा शादी की मांग पूरी की जा सके।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.