ताज़ा खबर
 

आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व चेयरमैन केवी कामत ने गिनाए नोटबंदी के ये पांच फायदे

उन्होंने कहा कि डिजिटल बैंकिंग को अपनाने से सरकार को फंड फ्लो पर नजर रखने और सर्कुलेटेड करंसी की मात्रा को कम करने में मदद मिलेगी।
आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व चेयरमैन केवी कामत। (फाइल फ़ोटो-रॉयटर्स)

केंद्र की मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले को लेकर समर्थन और विरोध दोनों तरह की प्रतिक्रियाएं देखने को मिल रही है। इसी बीच आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व चेयरमैन केवी कामत ने सरकार के इस फैसले के कई फायदे गिनाएं हैं। ब्रिक्स बैंक के चीफ केवी कामत ने जो मुख्य पांच फायदे गिनाए वो इस तरह हैं।

1. फंड फ्लो पर नजर: बिजनेस अखबार इकॉनमिक टाइम्स को दिए इंटरव्यू में कहा कि डिजिटल बैंकिंग की ओर बढ़ने से सरकार को फंड फ्लो पर नजर रखने में मदद मिलेगी और सर्कुलेशन में रहने वाली करंसी की मात्रा भी कम की जा सकेगी। इसके अलावा उन्होंने कहा कि डिजिटल बैंकिंग को अपनाने से सरकार को बिग डेटा ऐनालिटिक्स के जरिए फंड फ्लो पर नजर रखने में मदद मिलेगी और सर्कुलेशन में रहने वाली करंसी की मात्रा को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

2. 2.5 लाख करोड़ की अप्रत्याशित आय: सरकार द्वारा आयकर कानून में बदलाव किया गया है और कम से कम 50 फीसदी टैक्स देकर खातों में 30 दिसंबर तक बेहिसाबी रकम (अघोषित रकम) जमा कराई जा सकती है। कामत का कहना है कि इससे सरकार को टैक्स के रूप में कम से कम 2.5 लाख करोड़ रुपए की अप्रत्याशित आय हो सकती है।

3. लंबे समय के लिए कम ब्याज दर: छह महीने बाद ब्याज दर कम से कम 100 बेसिस प्वाइंट तक घटनी चाहिए। एक बेसिस प्वाइंट 0.01 प्रतिशत होता है (यानि 75 बेसिस प्वाइंट का मतलब 0.75 फीसदी)। ब्याज दर और महंगाई पर इसका असर पड़ेगा। आखिरकार अर्थव्यवस्था को इसी से रफ्तार मिलती है।

4. टैक्स का बेहतर अनुपालन: केवी कामत के मुताबिक टैक्स नियमों के पालन मामले में सुधार होगा। कई जगहों पर इनकम टैक्स की छापेमारी हो रही है, बड़ी संख्या में रकम पकड़ी जा रही है। भ्रष्टाचार और कालेधन से लोग दूर भागने की कोशिश करेंगे।

5. राज्य सरकार द्वारा संचालित बैंकों का पुनर्पूंजीकरण: इस शॉक थेरपी से बैंक भी मजबूत होंगे। उन्होंने कहा कि बैंकों में लिक्विडिटी पहुंचने से रेट्स घटेंगे और मार्केट रेट्स में कमी होने से बैंकों के बॉन्ड पोर्टफोलियो में फायदा होगा।

नोटबंदी: सुप्रीम कोर्ट के सवाल पर सरकार का जवाब, 10-15 दिन में दूर होगी परेशानी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग