December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

विदेशी मुद्रा निकासी की चिंता में सेंसेक्स 514 अंक टूटा, छह माह के निचले स्तर पर

डॉलर में मजबूती आने और अमेरिका में प्रतिफल बढ़ने के बीच विदेशी मुद्रा का बाह्य प्रवाह बढ़ने की चिंता में बाजार में गिरावट जारी रही।

Author मुंबई | November 15, 2016 19:35 pm
शेयर बाज़ार का हाल। (पीटीआई ग्राफिक्स)

बंबई शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला मंगलवार (15 नवंबर) को भी जारी रहा। सेंसेक्स 514 अंक टूटकर करीब छह माह के निचले स्तर 26,305 अंक पर आ गया। निफ्टी भी टूटकर 8,200 अंक के स्तर से नीचे पहुंच गया। डॉलर में मजबूती आने और अमेरिका में प्रतिफल बढ़ने के बीच विदेशी मुद्रा का बाह्य प्रवाह बढ़ने की चिंता में बाजार में गिरावट जारी रही। रुपया भी मंगलवार (15 नवंबर) को कारोबार के दौरान 57 पैसे के नुकसान से करीब पांच माह के निचले स्तर 67.82 रुपए प्रति डॉलर पर आ गया। ब्रोकरों ने कहा कि सरकार के पिछले सप्ताह के बड़े मूल्य के नोटों को बंद करने के फैसले तथा बड़ी कंपनियों के निराशाजनक तिमाही नतीजों से कारोबारी धारणा बुरी तरह प्रभावित हुई है।

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 26,809.61 अंक पर कमजोर खुलने के बाद और नीचे आया। अंत में यह 514.19 अंक या 1.92 प्रतिशत के नुकसान से 26,304.63 अंक पर आ गया। यह 25 मई के बाद सेंसेक्स का सबसे निचला स्तर है। इससे पहले शुक्रवार को सेंसेक्स 698.86 अंक टूटा था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 187.85 अंक या 2.26 प्रतिशत के नुकसान से 8,108.45 अंक पर आ गया। यह 27 जून के बाद इसका निचला स्तर है। उस दिन निफ्टी 8,094.70 अंक पर बंद हुआ था। कारोबार के दौरान निफ्टी 8,100 से नीचे 8,093.20 अंक तक गया। अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप की जीत के बाद सभी प्रमुख एशियाई मुद्राओं में डॉलर के मुकाबले गिरावट आ रही है। इससे उभरते बाजारों से निकासी हो रही है। घरेलू शेयर बाजारों में गिरावट की यह एक प्रमुख वजह है।

मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार लगातार दूसरे महीने थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति नीचे आई है। अक्तूबर में यह घटकर 3.39 प्रतिशत पर आ गई। इस बीच, सरकार की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार सितंबर में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर मात्र 0.7 प्रतिशत रही है। सोमवार को गुरुनानक जयंती के उपलक्ष्य में शेयर बाजारों में अवकाश था। बीएसई स्मालकैप में 4.67 प्रतिशत तथा मिडकैप में 3.91 प्रतिशत की गिरावट आई। आईटी को छोड़कर अन्य सभी वर्गों के सूचकांक नुकसान में रहे। आईटी में 0.30 प्रतिशत की बढ़त दर्ज हुई। विप्रो, टीसीएस और इन्फोसिस के शेयर 1.27 प्रतिशत तक चढ़ गए।

इस बीच, सितंबर में समाप्त तिमाही में शुद्ध लाभ में चार गुना बढ़ोतरी के बाद बैंक आफ बड़ौदा का शेयर 8.49 प्रतिशत चढ़कर 174.35 रुपए पर पहुंच गया। कारोबार के दौरान यह 10.17 प्रतिशत तक चढ़ा था। सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा मोटर्स में सबसे अधिक 9.88 प्रतिशत की गिरावट आई और यह 457.25 रुपए पर आ गया। सितंबर तिमाही में कंपनी का एकल शुद्ध घाटा बढ़कर 631 करोड़ रुपए पर आ गया। इस बीच, अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने शुक्रवार को शुद्ध रूप से 1,493.27 करोड़ रुपए के शेयर बेचे। अन्य एशियाई बाजारों में गिरावट रही। जापान का निक्की 0.03 प्रतिशत टूट गया। शंघाई कम्पोजिट में 0.11 प्रतिशत का नुकसान रहा। हालांकि, शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार कुछ ऊपर चल रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 7:35 pm

सबरंग