December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

मृत्‍यु संबंधी PF दावा सात दिन में निपटाने का निर्देश, रिटायरमेंट लेने वालों को भी राहत

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने मृत्यु संबंधी निपटारे के दावों को सात दिन के अंतर निपटाने के दिशानिर्देश जारी किए हैं।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने मृत्यु संबंधी निपटारे के दावों को सात दिन के अंतर निपटाने के दिशानिर्देश जारी किए हैं।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने मृत्यु संबंधी निपटारे के दावों को सात दिन के अंतर निपटाने के दिशानिर्देश जारी किए हैं। इसी तरह सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों का हिसाब-किताब सेवा पूरी होने से पहले ही तय करने को कहा गया है। ईपीएफओ ने मंगलवार को इसे संबंध में अपने अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए। श्रम मंत्रालय ने कहा कि श्रम मंत्री बंगारू दत्तात्रेय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 26 अक्टूबर को हुई बैठक में दिए गए दिशानिर्देशों पर की गई कार्रवाई की  समीक्षा की। इसमें केंद्रीय भविष्य निधि कोष आयुक्त (सीपीएफसी) ने मंत्री को बताया कि प्रधानमंत्री के निर्देश पर ईपीएफओ ने सेवानिवृत्ति और मृत्यु संबंधी दावों के निपटान के बारे में विस्तृत दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। बता दें कि बीमा कवर 3.6 लाख रुपए तक था जिसे अब बढ़ाकर 6 लाख रुपए कर दिया गया है। इस नियम के मुताबिक सदस्य की मृत्यु हो जाने पर उसके परिवार को 6 लाख रुपए मिलेंगे। जीवन बीमा कवर के लिए कर्मचारी को एक साल तक नौकरी करने की अनिवार्यता से मुक्त कर दिया गया है।

मंत्रालय की ओर से कहा गया, ”ये दिशा निर्देश फील्‍ड ऑफिसर्स को भेज दिए गए हैं।” साथ ही सोशल मीडिया के जरिए मिलने वाली शिकायतों पर भी फुरती से काम करने को कहा गया है। ईपीएफओ ने कॉमन सर्विस सेंटर्स केसाथ एक एमओयू किया है। इसके जरिए अधार कार्ड रखने वाले 50 लाख ईपीएफ पेंशनर्स को जीवन प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। इससे पहले ईपीएफओ ने पीएफ अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने के नियमों में भी बदलाव किया था। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने पीएफ डिपॉजिट ट्रांसफर के लिए नियमों में कुछ बदलाव किया है।

ईपीएफओ की रिटायरमेंट फंड बॉडी ने पुराने डेक्लरेशन फॉर्म की जगह नया डेक्लरेशन फॉर्म (new Form No 11) जारी किया है। नए जगह नौकरी ज्वाइन करते वक्त इस फॉर्म में व्यक्ति को अपने पूर्ववर्ती संस्थान के बारे में सारी डिटेल्स देनी होगी। इसके आलावा ईपीएफओ ने फॉर्म 13 (एक संस्थान से दूसरे संस्थान में पीएफ के पैसे ट्रांसफर करने संबंधित) में भी बदलाव किया है। इस फॉर्म में पहले यूएएन के जरिए प्रॉविडेंट फंड ट्रांसफर किया जाता था। इसके अतिरिक्त कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने कर्मचारियों की पेंशन स्कीम को बेहतर बनाने और ज्यादा लाभ देने के लिए पीएफ नियमों में बदलाव किए हैं। ऑनलाइन सर्विस, बीमा कवर बढ़ाना, एक साल नौकरी की अनिवार्यता खत्म, मिलता रहेगा ब्याज, न्यूनतम वेतनमान की सीमा बढ़ी व भाग-दौड़ से मिलेगी छुट्टी जैसे बदलाव किए गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 2, 2016 8:57 am

सबरंग