December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

रोज़मर्रा के उपभोक्ता सामान बनाने वाली विदेशी कंपनियों पर भारी देसी कंपनियां, 146% वृद्धि के साथ पतंजलि सबसे आगे

सात प्रमुख घरेलू कंपनियों की संयुक्त आय 11.066 अरब डॉलर रही। इसी दौरान भारत के इस क्षेत्र की सात विदेशी कंपनियों की आय करीब 9.44 अरब डॉलर से कुछ अधिक थी।

Author नई दिल्ली | October 31, 2016 18:18 pm
पतंजलि के उत्पाद (फोटो स्रोत- पतंजलि.कॉम)

देश में रोजमर्रा के उपयोग के उपभोक्ता सामान बनाने वाली सात प्रमुख कंपनियों की आय 2015-16 में घरेलू बाजार में काम कर रही अपनी सात प्रमुख विदेशी प्रतिस्पर्धी फर्मों से अच्छी रही। यह जानकारी एक ताजा रपट में दी गयी है। एसोचैम-टेकस्की अनुसंधान रपट के अनुसार पिछले वित्त वर्ष के दौरान सात प्रमुख घरेलू एफएमसीजी कंपनियों की संयुक्त आय 11.066 अरब डॉलर यानी 738.35 अरब रुपए से कुछ अधिक के बराबर रही। इसी दौरान भारत के इस क्षेत्र की सात विदेशी कंपनियों की आय करीब 9.44 अरब डॉलर यानी 629.6 अरब रुपए से कुछ अधिक थी। प्रमुख घरेलू कंपनी आईटीसी ने आलोच्य अवधि में करीब 5.94 अरब डॉलर की आय दर्ज की। ब्रिटेनिया इंडस्ट्रीज की आय 1.2 अरब डॉलर, डाबर इंडिया करीब 88.5 करोड़ डॉलर और गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स ने 74 करोड़ डॉलर से कुछ अधिक कमाई की। पिछले वित्त वर्ष में मारिको की कमाई 76 करोड़ डॉलर से कुछ अधिक और अमूल की कमाई करीब 74.4 अरब डॉलर रहा।

रपट में कहा गया है कि इस दौरान पतंजलि आयुर्वेद के प्रदर्शन का कोई जवाब नहीं रहा। इस कंपनी ने 146.31 प्रतिशत की वृद्धि के साथ पिछले वित्त वर्ष में करीब 77 करोड़ डॉलर की वृद्धि दर्ज की। इसके विपरीत पिछले वित्त वर्ष में हिंदुस्तान यूनीलीवर की आमदानी 4.9 अरब डॉलर से कुछ अधिक रही। प्रॉक्टर एंड गैंबल हाइजीन एण्ड हेल्थ केयर लि. की कमाई 38.2 करोड़ डालर रही। ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन कंज्यूमर हेल्डकेयर लि. की आमदनी 66.3 करोड़ डॉलर थी। कॉलगेट-पामोलिव (इंडिया) तथा जिलेट की आय इसी दौरान क्रमश: 64 करोड़ और 32.16 करोड़ डॉलर थी। इसी दौरान नेस्ले और पेप्सिको ने क्रमश: करीब 1.26 अरब डॉलर और 1.25 अरब डॉलर का की आय दर्ज की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 31, 2016 6:18 pm

सबरंग