December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी के बाद देशभर के डाकघरों में 32,631 करोड़ और जनधन खातों में 27198 करोड़ रुपये जमा हुए

सुधाकर ने बताया कि इसी अवधि में डाकघरों से 3,583 करोड़ रुपये की राशि निकाली गई।

Author November 27, 2016 14:38 pm
देशभर के डाकघरों में नोटबंदी के बाद 32,631 करोड़ रुपये जमा हुए।

नोटबंदी के बाद देश भर के 1.55 लाख डाकघरों में 500 और 1000 रुपये के पुराने कुल 32,631 करोड़ रुपये जमा कराए गए हैं। डाक विभाग के सचिव बी वी सुधाकर ने कहा कि इस दौरान डाकघरों ने 3,680 करोड़ रुपये के पुराने नोट बदले हैं। उन्होंने बताया कि 10 नवंबर से 24 नवंबर के दौरान हमने 3,680 करोड़ रुपये मूल्य के 578 लाख नोट बदले हैं। वहीं इस दौरान 43.48 लाख 500 और 1,000 के नोट जमा किए गए। इनका मूल्य 32,631 करोड़ रुपये बैठता है। सुधाकर ने कहा कि कुल 1.55 लाख डाकघर इस पूरी प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इनमें से 1.30 लाख डाकघर ग्रामीण इलाकों में तथा 25,000 शहरी और अर्द्धशहरी क्षेत्रों में हैं।

सुधाकर ने बताया कि इसी अवधि में डाकघरों से 3,583 करोड़ रुपये की राशि निकाली गई। यह पूछे जाने पर कि ग्रामीण और शहरी इलाकों में कितने नोट बदले गए और कितने जमा हुए, सुधाकर ने कहा कि 88 प्रतिशत डाकघर ग्रामीण इलाकों में हैं। इस लिहाज से ज्यादातर लेन देन ग्रामीण इलाकों में हुआ है। उन्होंने कहा कि विभाग ने इस बात की विशेष व्यवस्था की है कि नकदी ग्रामीण इलाकों के डाकघरों में पहुंच सके।

इसके अलावा केंद्र सरकार ने बताया कि नोटबंदी के ऐलान के बाद के 14 दिनों में जन धन खातों में जमा रकम में करीब 27,200 करोड़ रूपए का इजाफा हुआ है । करीब 25 करोड़ 68 लाख जन धन खातों में कुल जमा राशि 70,000 करोड़ रूपए के आंकड़े को पार कर चुकी है और 23 नवंबर को यह आंकड़ा 72,834.72 करोड़ रूपए था । 9 नवंबर को इन खातों में 45,636.61 करोड़ रूपए जमा थे ।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात को 500 और 1000 रुपये के नोट को बैन करने का ऐलान किया था। इस ऐलान के बाद जन धन खातों में 27,198 करोड़ रूपए जमा हुए हैं । बहरहाल, 25 करोड़ 68 लाख जन धन खातों में से 22.94 फीसदी खातों में अब भी एक रूपया नहीं है ।

वीडियो देखिए- मनमोहन के हमले पर जेटली का पलटवार; बोले- ‘स्कैंडल वाली सरकार नोटबंदी को घोटाला बता रही है’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 27, 2016 2:35 pm

सबरंग