December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी का असर: FD पर मिलेगा कम ब्याज, ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो यहां इन्वेस्ट करें पैसा

विशेषज्ञों का कहना है कि नोटबंदी के कारण बैंकों में बड़े पैमाने पर पैसा जमा होने से बैंकों के पास लिक्विडिटी की कोई दिक्कत नहीं है। ऐसे में बैंक डिपॉजिट रेट में कमी करेंगे।

एफडी की जगह म्युचुअल फंड में करें निवेश। सांकेतिक तस्वीर। (Photo Source: AP)

नोटबंदी के चलते बैंकों की चांदी हो गई है। पैसे की कमी से जूझ रहे बैंकों को मोदी सरकार के इस फैसले से बड़ा समर्थन मिला है। रिजर्व बैंक के मुताबिक 10 से 18 नवंबर के बीच बैंकों में 5 लाख करोड़ रुपए जमा हुए थे। इसके चलते बैंकों के पास पर्याप्त मात्रा में पैसा आ गया है। हालांकि इसका असर आपके निवेश पर पड़ सकता है, जो लोग कम जोखिम और अच्छे रिटर्न के चलते बैंक एफडी और आरडी में पैसे का निवेश करते हैं उन्हें तगड़ा झटका लगेगा। पैसा आने के बाद बैंकों ने ब्याज दर घटानी शुरू कर दी है। पिछले हफ्तों बैंकों ने ब्याज दरें घटाई थी। उम्मीद की जा रही है जमाओं पर आगे और ब्याज दर घटाई जा सकती है। ऐसे में एफडी में पैसे निवेश करने पर आपको ज्यादा रिटर्न नहीं मिलेगा।

एफडी की जगह यहां कर सकते हैं निवेश

विशेषज्ञों का कहना है कि नोटबंदी के कारण बैंकों में बड़े पैमाने पर पैसा जमा होने से बैंकों के पास लिक्विडिटी की कोई दिक्कत नहीं है। ऐसे में बैंक डिपॉजिट रेट में कमी करेंगे। उनके मुताबिक एफडी पर ब्याज होने से पारंपरिक निवेशकों को नुकसान होगा। औम तौर पर बिना जोखिम के आकर्षक रिटर्न के लिए एफडी में निवेश करते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि ऐसे में आपको निवेश एफडी और आरडी से शिफ्ट करके डेब्ट म्यूचुअल फंड्स में पैसा लगाना चाहिए। इन फंड्स में आपको 8-9 पर्सेंट तक रिटर्न मिलता है। इसमें निवेश करने से आपको एक बड़ा अमाउंट प्राप्त हो सकता है। फिलहाल बैंकों द्वारा एफडी पर औसतन 7 पर्सेंट का रिटर्न दिया जा रहा है।

ब्याज दरों में और कटौती कर सकते हैं बैंक
गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद जमाओं में अप्रत्याशित उछाल को देखते हुए आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक सहित प्रमुख बैंकों ने सावधि जमाओं (एफडी) के ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत तक की कमी की घोषणा पिछले हफ्ते की थी। इससे पहले एसबीआई यानी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया भी ब्याज दरों में कटौती का ऐलान कर चुका है। आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट के मुताबिक 390 दिन से दो साल तक की सावधि जमाओं के लिए ब्याज दर में 0.15 प्रतिशत की कमी की गई है। अब बैंक इन जमाओं पर 7.10 प्रतिशत ब्याज देगा जबकि पहले यह दर 7.25 प्रतिशत थी। इस बीच एचडीएफसी बैंक ने एक से पांच करोड़ रुपये की जमाओं के लिए ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है। वहीं सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने मियादी जमाओं पर ब्याज दरों में 0.15 पर्सेंट की कमी की थी। कहा जा रहा है कि बैंक जमाओं में आगे और कटौती कर सकते हैं।

 

 

वीडियो: जनधन खातों में जमा पैसे का वित्तीय खुफिया एजेंसी ने बैंकों से मांगा विस्तृत ब्योरा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 28, 2016 10:32 am

सबरंग