ताज़ा खबर
 

घरेलू प्राकृतिक गैस के दाम में 18 फीसद की कटौती, CNG होगी सस्ती

बिजली और उर्वरक कारखानों और सीएनजी आपूर्ति में इस्तेमाल के लिए प्राकृतिक गैस की दर शुक्रवार को 18 फीसद घटाकर 2.5 डालर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट कर दी गई।
Author नई दिल्ली | October 1, 2016 02:04 am

बिजली और उर्वरक कारखानों और सीएनजी आपूर्ति में इस्तेमाल के लिए प्राकृतिक गैस की दर शुक्रवार को 18 फीसद घटाकर 2.5 डालर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट कर दी गई। पिछले 18 महीने में चौथी बार प्राकृतिक गैस के मूल्य में कमी की गई है। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल व प्राकृतिक गैस निगम(ओएनजीसी) और रिलायंस इंडस्ट्रीज के मौजूदा फील्डों से उत्पादित प्राकृतिक गैस की दर में कटौती कर 2.5 डालर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट (एमएमबीटीयू)कर दिया गया है। यह कटौती एक अक्तूबर से छह महीने के लिए की गई है। फिलहाल यह 3.06 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू है। राजग सरकार द्वारा अक्तूबर 2014 में नए गैस कीमत फार्मूले के तहत गैस के दाम में हर छह महीने में संशोधन किया जाता है और अगला संशोधन एक अप्रैल को होगा।

प्राकृतिक गैस के दाम में कमी का मतलब है कि काम्प्रेस्ड नेचुरल गैस(सीएनजी)और घरों में पाइप के जरिए पहुंचने वाली गैस(पीएनजी) के लिए कच्चे माल की लागत कम होगी। इससे खुदरा कीमत में कमी आएगी। साथ ही इससे बिजली उत्पादन और उर्वरक बनाने की लागत भी कम होगी। इससे पहले, एक अप्रैल को मूल्य 20 फीसद घटाकर 3.06 डालर कर दिया गया।

पेट्रोलियम मंत्रालय के पेट्रोलियम नियोजन व विश्लेषण प्रकोष्ठ ने एक अधिसूचना में कहा- सकल कैलोरिफिक मूल्य(जीसीवी)आधार पर घरेलू प्राकृतिक गैस की कीमत एक अक्तूबर 2016 से 31 मार्च 2017 तक 2.50 डालर प्रति एमएमबीटीयू होगी। उद्योग के अनुमान के अनुसार इस कटौती से सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी के साथ केंद्र सरकार पर असर पड़ेगा। इससे चालू वित्त वर्ष की शेष अवधि में रॉयल्टी और आयकर से कमाई करीब 800 करोड़ रुपए कम होगी। अधिसूचना के अनुसार सरकार ने गहरे सागर जैसे कठिन क्षेत्र से निकलने वाली गैस की कीमत में तीव्र कटौती की घोषणा की है। एक अक्तूबर 2016 से 31 मार्च 2017 के लिए कीमत सीमा 5.3 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू होगी जो एक अप्रैल 30 सितंबर तक 6.61 डालर प्रति एमएमबीटीयू थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग